Times Bull
News in Hindi

Mobile Banking Apps आए खतरनाक वायरस के निशाने पर, OTP पढ़कर लगा रहा चूना

इंटरनेट और सॉफ्टवेर की सुरक्षा से जुड़ी कंपनी ‘QuickHeel’ ने चौंकाने वाला खुलासा किया जिसमें बैंको के मोबाइल यूजर्स के लिए चेतावनी जारी की गई है। इस कंपनी ने कहा है कि भारत सहित दुनिया के करीब 232 बैंकों के Mobile Apps एक खतरनाक वायरस की चपेट में आ चुके हैं।

QuickHeel ने अपने ब्लॉग में लिखा कि हाल ही में एंड्रॉइड डॉट बैंकर डॉट ए9480 नाम का एक वायरस बैंकिंग एप्स को निशाना बना रहा है। यह वायरस अथवा मैलवेयर एक सॉफ्टवेयर प्रोग्राम है जिसको हैकर्स द्वारा कंप्यूटर या मोबाइल से निजी जानकारी चोरी करने के लिए डिजाइन किया गया है। इसके जरिए हैकर्स यूजर्स की फोटो, वीडियो, बैंक अकाउंट आदि की जानकारी चुरा लेते हैं।

यह मैलवेयर मोबाइल में कैसे पहुंचता है?

QuickHeel का कहना है कि यह वायरस फर्जी फ्लैश प्लेयर एप के फैलाया जा रहा है। इसको थर्ड पार्टी एप स्टोर या मैसेज में लिंक के जरिये लोगों तक पहुंचाया जा रहा है। एडोब फ्लैशप्लेयर की इंटरनेट पर काफी ज्यादा मांग होने के कारण हैकर्स इसका सहारा लेकर यूजर्स को निशाना बना रहे हैं।

google play store,google news,Mobile Phone game,Apps news,Apps news in hindi,Gaming App,mobile virus, Google Play store, मोबाइल एप्स, Paw Puppy Run Subway Surf,Shine Hero Boy Adventure Game, Drawing Lessons Lego Ninjago, Addon Sponge Bob, एडल्टस्वाइन, गेमिंग एप्स, मोबाइल फोन गेमिंग एप्स, गूगल

वायरस ऐसे कैसे करता है काम

QuickHeel ने अपने ब्लॉग में लिखा है कि वायरस बैकग्राउंड में काम करता है और यूजर्स के फोन में इंस्टॉल होने के बाद इसका आइकॉन नहीं दिखता। यह इंस्टॉल होते ही मोबाइल में संबंधित 232 बैंकिंग एप्स को सर्च करना शुरू कर देता है। इनमें से कोई भी एप मिलते ही यह यूजर्स को नोटिफिकेशंस भेजता है जो हूबहू बैंक द्वारा भेजे गए नोटिफिकेशन जैसा ही होता है। यूजर के नोटिफिकेशन खोलते ही उसे एक फर्जी लॉग इन विंडो मिलेगा और यहां से यूजर की संवेदनशील जानकारियां हैकर्स के पास पहुंच जाती हैं। यह वायरस मैसेज को हाइजैक कर बैंक द्वारा भेजे जाने वाले ‘वन टाइम पासवर्ड’ यानी OTP को भी पढ़ लेता है।

इन बैंकों के एप हुए प्रभावित

भारत में अब तक इस एप ने जिन बैंकों के एप्स को अब तक निशाना बनाया है उनमें आईसीआईसीआई बैंक, एचडीएफसी, एक्सिस बैंक, एसबीआई, आईडीबीआई बैंक, बैंक ऑफ बड़ौदा और यूनियन बैंक के एप्स शामिल हैं। QuickHeel के मुताबिक इस मैलवेयर से बिटकॉइनियम, कॉइनपेमेंट और बिट फिनेक्स जैसी 20 से अधिक क्रिप्टोकरेंसी एप्स भी प्रभावित हुए हैं।

बचने के लिए करें ये उपाय

सिक्योरिटी कंपनी QuickHeel ने इस वायरस से बचने के लिए कहा है कि यूजर्स थर्ड पार्टी एप स्टोर और एसएमएस से भेजे गए लिंक के जरिये किसी भी एप को डाउनलोड नहीं करें। यूजर केवल ‘Google Play Store’ से और ‘App Store’ से ही किसी एप को डाउनलोड करें।

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.