News in Hindi

यह हॉट मॉडल कहलाती है क्वीन ऑफ डार्क, फिर भी लोग कहते हैं ये बात

आपने अब तक किताबों में ही ब्लैक ब्यूटी का जिक्र सुना होगा। आज आपको असली ब्लैक ब्यूटी से मिलवाते हैं। हमारे देश सहित कई जगहों पर गोरे रंग को ही खूबसूरती का प्रतीक माना जाता है। खासकर लड़कियों के लिए गोरा रंग ही प्रिफर किया जाता है। हालांकि यह मॉडल इस मिथ्य को तोड़ती है कि खूबसूरती का अर्थ गोरा रंग ही होता है।

साउथ सूडान की न्याकिम गैट्वेच अपनी डार्क स्किन टोन की वजह से सुर्खियां बटोर रही हैं। लोग उन्हें क्वीन ऑफ डार्क के नाम से पहचाने हैं। जहां लड़कियां अपने सांवले रंग को नापसंद करते हुए गोरे होने के लिए मेकअप और फेयरनेस क्रीम्स का सहारा लेने लगती हैं। वहीं इस मॉडल को अपने स्किन कलर से प्यार है।

गैट्वेच कहती हैं – मुझे कितना भी पैसा क्यों न मिल जाए, मैं कभी अपने स्किन कलर को चेंज नहीं करूंगी। ये भगवान की देन है। हालांकि कई बार न्याकिम को बुरे वक्त का सामना करना पड़ा है। उन्होंने बताया कि जब वह यूएस मॉडलिंग के लिए आई थीं, तो यहां उन्हें अपनी स्किन के कलर को लेकर कई बार बातें सुननी पड़ीं। लोगों ने उनके साथ बुरा व्यवहार किया। लोग उन्हें बदसूरत मानते थे।

हालांकि न्याकिम ने इन सबसे हार नहीं मानी और जीवन में आगे बढ़ती गईं। आज उनकी अलग पहचान है। अब लोग उन्हें कवीन ऑफ डार्क कहकर बुलाते हैं। वो अपनी स्किन टोन के साथ कम्फर्टेबल हैं। इनकी तस्वीरें देखकर आप भी कह उठेंगे कि न्याकिम सच में ब्लैक ब्यूटी हैं।

न्याकिम ने बताया कि एक बार उनसे उबर ड्राइवर ने सवाल किया – अगर आपको कोई 10 हजार डॉलर दे, तो क्या आप उससे अपनी स्किन को ब्लीच करवाएंगी। जवाब में न्याकिम ने कहा – मैं इस सवाल का जवाब भी नहीं दे पा रही थी, मैंने जोर जोर से हंसना शुरू कर दिया। इस पर उसने कहा कि क्या इसका मतलब ना है। मैंने कहा बेशकना ही है। मैं ईश्वर के इस तोहफ को ब्लीच क्यों करूंगी। उसने हैरानी से कहा, ईश्वर का आशीर्वाद। न्याकिम ने कहा कि आप यकीन नहीं करेंगे कि मुझे लोग किस तरह से देखते हैं और किस किस तरह की सलाह देते हैं।