UP Board 2020: ‘सामान्य हिंदी’ के बजाय ‘हिंदी साहित्य’ का प्रश्न पत्र बंटने से मचा हड़कंप

UP board 2020: उत्तर प्रदेश में बोर्ड की परीक्षाएं शुरू हैं , लेकिन इसके साथ ही विवाद भी खड़ा हो गया है। बता दें कि इस बार सरकार ने नक़ल रोकने के लिए बहुत ही पुख्ता इंतज़ाम किये हैं। सबकुछ सही है, लेकिन बोर्ड की और से लापरवाही रुकने का नाम नहीं ले रही है।

दरअसल मामला गलत प्रश्न पत्र वितरित करने का है। जी हां, छात्रों के बीच गलत प्रश्न पत्र वितरित करने की खबर है। इसे लेकर डीएम ने शिकायतें भी दर्ज कर ली है। खबर है कि कुछ विज्ञान स्ट्रीम के छात्रों को मंगलवार को रामपुर में उत्तर प्रदेश बोर्ड परीक्षा में ‘सामान्य हिंदी’ के बजाय ‘हिंदी साहित्य’ का प्रश्न पत्र मिला।

जिलाधिकारी अनंजय कुमार ने कहा कि उन्हें आठ छात्रों से इस संबंध में शिकायत मिली है और जल्द ही कार्रवाई की जाएगी।

कुमार ने कहा, ‘मुझे छात्रों से शिकायत मिली है। स्कूल के जिला निरीक्षक को रिपोर्ट तैयार करने के लिए कहा गया है। हम उसके बाद कार्रवाई करेंगे।’

दूसरी और चौंकाने वाली खबर यह है कि यूपी बोर्ड परीक्षा के पहले दो दिनों में 3.17 लाख से अधिक छात्रों ने हाई स्कूल और इंटरमीडिएट परीक्षाओं को छोड़ दिया है। मंगलवार को 2,39,133 परीक्षार्थी शाम 7 बजे तक अपने पेपर लिखने के लिए नहीं निकले। लेकिन इसके बाद यह आंकड़ा और बढ़ गया, क्योंकि सुदूर जिलों से संख्या में इजाफा हुआ।

बुधवार को 1,359 परीक्षार्थियों (112 हाईस्कूल और 1,247 इंटरमीडिएट के छात्रों सहित) ने परीक्षा नहीं दी। एक अधिकारी ने कहा कि संख्या में और वृद्धि होगी क्योंकि दूरस्थ जिलों के आंकड़े संकलित किए जा रहे थे।

Notifications    Ok No thanks