CBSE Board Exam 2020: सोशल मीडिया को मिला छात्रों को टॉप कराने का मंत्र

CBSE Board Exam 2020: नई दिल्ली। सीबीएसई बोर्ड परीक्षा 2020 की उल्टी गिनती शुरू हो चुकी है। परीक्षा (Exam) को लेकर यक़ीनन छात्र तनाव महसूस करते हैं , ऐसे में कई बार डिप्रेशन में भी चले जाते हैं। नतीजन रिजल्ट (Result) बिगड़ जाता है।  इसी को ध्यान में रखते हुए सीबीएसई (CBSE) ने सोशल मीडिया का सहारा है। मानो सोशल मीडिया (Social Media) को इस बार छात्रों को टॉप (Topper) कराने का मंत्र मिल गया है।

दरअसल, युवाओं के बीच सोशल मीडिया का क्रेज बहुत ज्यादा है। लिहाजा सीबीएसई ने हेल्दी प्रेपरेशन के साथ कुछ महत्वपूर्ण बातों को छात्रों से साझा करने के लिए YouTube, Facebook, Twitter और Instagram जैसे प्लेटफॉर्म का उपयोग किया है। केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (CBSE) ने कक्षा 10वीं  और कक्षा 12वींइन  की बोर्ड परीक्षाओं में बैठने वाले छात्रों के लिए विभिन्न प्लेटफार्मों पर निशुल्क पूर्व परीक्षा परामर्श सत्र (Counseling Sessions) आयोजित शुरू करने का फैसला लिया है।

बता दें कि 10 और 12वीं की बोर्ड परीक्षा 15 फरवरी 2020 से शुरू हो रही है। हाई स्कूल की परीक्षा 15 फरवरी से 20 मार्च चलेंगी। 12 वीं की परीक्षा 15 फरवरी से 30 मार्च तक जारी रहेगी। परीक्षार्थियों की सहूलियत के लिए बोर्ड ने हेल्पलाइन व काउंसलिंग की शुरुआत भी कर दी है। लेकिन टेलीफोन व वेबसाइट के अलावा, सीबीएसई ने इस बार ट्विटर को भी विद्यार्थियों तक पहुंचने का माध्यम बनाया है। हाई स्कूल की कॉउंसलिंग 1 फरवरी से शुरू हो चुकी है जो मार्च के आखिर तक चलेगी।

सीबीएसई के सवाल-जवाब

प्रश्न – क्या इंप्रूवमेंट परीक्षा देने वाले छात्रों के लिए प्रैक्टिकल परीक्षा होगी? या वर्ष 2019 के उनके प्रैक्टिकल अंक माने जाएंगे? 

सीबीएसई का उत्तर – वर्ष 2019 में परीक्षा देने वाले छात्रों के प्रैक्टिकल अंक बोर्ड के पास उपलब्ध रिकॉर्ड से लिए जाएंगे। 2018 या उससे पहले के छात्रों को अनुपालिक अंक दिए जाएंगे।

प्रश्न – मैं स्टैंडर्ड और बेसिक लेवल मैथ्स के सैंपल प्रश्न पत्र डिजाइन कैसे प्राप्त कर सकता हूं?

सीबीएसई का उत्तर – ये cbseacademics.nic.in पर उपलब्ध है।

प्रश्न – क्या सीबीएसई विशिष्ट रूप से सक्षम अभ्यर्थियों को कोई छूट देता है?

उत्तर – जी हां, इसके लिे आप cbse.nic.in पर जाकर बोर्ड का परिपत्र दिनांक 12 अप्रैल 2019 देखें।

प्रश्न – क्या कक्षा 12वीं में थ्योरी और प्रैक्टिकल परीक्षा में अलग से पास होना अनिवार्य है?

उत्तर – बाह्य परीक्षा के प्रत्येक विषय में अहर्ता अंक 33 प्रतिशत है। हालांकि, प्रैक्टिकल कार्य वाले विषय में उत्तीर्ण होने के लिए 33 फीसदी कुल अंकों के अतिरिक्त थ्योरी में 33 फीसदी और प्रैक्टिकल में 33 फीसदी अंक अलग से प्राप्त होने चाहिए।

प्रश्न – क्या अंकों के सत्यापन या पुनर्मूल्यांकन के बाद अंक घट भी सकते हैं?

उत्तर – अंक सत्यापन की प्रक्रिया के बाद प्राप्त अंकों के अनुसार अंक बढ़ सकते हैं और घट भी सकते हैं। छात्रों को संशोधित परिणाम स्वीकार करना होगा।

 

Notifications    Ok No thanks