Times Bull
News in Hindi

इन देशों में नहीं लगता कोई टैक्स

सऊदी अरब – यहां किसी भी व्यक्ति पर किसी भी तरह का सरकार की ओर से टैक्स नहीं लगाया जाता है। भारत की तरह यहां नौकरीपेशा लोगों की तनख्वाह पर सरकार इनकम टैक्स नहीं वसूलती है। यानि की जो कमाया वो आपका, लेकिन अगर कोई व्यक्ति किसी अन्य देश से आकर सऊदी अरब में व्यवसाय करता है, तो उस पर 20 प्रतिशत कर लगाया जाता है।

बरमूडा – यह देश जरूर छोटा है, लेकिन इसका दिल बहुत बड़ा है। यहां आओ काम करो और जितना कमाओ घर ले जाओ। इस देश में आयकर नहीं लिया जाता है। हालांकि नौकरी देने वालों से 14 प्रतिशत का पे-रोल टैक्स वूसला जाता है। अगर नियोक्ता यह टैक्स नहीं दे पए तो इसका 5.25 प्रतिशत कर्मचारी से वसूला जा सकता है।

बहमास – यह एक ऎसा देश है जहां कमाई पर सरकार नजरें नहीं गढ़ाती हैं। ना कोई आयकर, कैपिटल गेन और उत्तराधिकार में मिली सम्पति पर भी कोई कर नहीं लिया जाता है। हालांकि स्टांप ड्यूटी और रियल प्रॉपर्टी टैक्स लागू है।

नई दारूस्सलाम – टैक्स नहीं लेने के मामले में ब्रुनई का नाम भी लिया जाता है। यहां किसी भी नागरिक से किसी तरह का कोई आयकर नहीं लिया जाता है। इम्प्लाई ट्रस्ट फंड और सप्लीमेंट कंट्रीब्यूटरी पेंशन स्कीम भी यहां चलाई जाती है।

बहरीन – बहरीन के नागरिकों की सामाजिक सुरक्षा के लिए सरकार ने कई इंतजाम कर रखे हैं। जैसे सरकार यहां के निवासियों से सोशल इंश्योरेन्स टैक्स लेती है जो कुल आमदनी का 7 प्रतिशत होता है। साथ ही लोगों को जॉब देने वाले मालिकों को भी सामाजिक सुरक्षा के नाम पर 12 फीसदी कर जमा कराना होता है। हालांकि यहां पर भी इनकम टैक्स नहीं वसूला जाता है।

कैमेन आइलैंड – यहां की सरकार ने इसकी पूरी कोशिश की है कि यहां के नागरिकों को किसी तरह का टैक्स नहीं देना पड़े। यहां ना तो लोगों को आयकर देना होता है और ना ही सामाजिक सुरक्षा कर। हालांकि कर्मचारियों के लिए मालिकों को पेंशन स्कीम चलानी ही होती है। इसमें वे प्रवासी भी शामिल हैं।

ओमान – खूब कमाओ, अपने ऊपर खर्च करो और एक पैसा सरकार को टैक्स के रूप में नहीं देना पड़े। ऎसी जगहों में शुमार है ओमान। ना कोई इनकम टैक्स, सामजिक सुरक्षा टैक्स और ना ही कोई अन्य टैक्स।

कुवैत – यहां की कर प्रणाली बड़ी सरल और स्पष्ट है। किसी भी नागरिक से आय पर कर नहीं वसूला जाता है। परन्तु सामाजिक सुरक्षा की मद में योगदान करना अनिवार्य है।

सम्पत्ति के उत्तराधिकारी बनने पर कोई कर नहीं

कतर – टैक्स फ्री देशों में कतर का नाम भी सबसे आगे रहता है। यहां आपसे आयकर नहीं लिया जाता है और ना ही कैपिटल गेन या धन, सम्पत्ति के उत्तराधिकारी बनने पर कोई कर लगाया जाता है। सामाजिक सुरक्षा के नाम पर 5 प्रतिशत कर कर्मचारियों से और स्थानीय कर्मचारियों से 10 प्रतिशत की दर से टैक्स लगता है।

संयुक्त अरब अमीरात में आयकर नहीं

संयुक्त अरब अमीरात – आयकर नहीं लेने और कर्मचारियों के हित में नीतियां बनाने में इस देश का कोई मुकाबला नहीं है। संयुक्त अरब अमीरात में सोशल इंश्योरेंस के नाम पर प्रवासियों से एक रूपया नहीं लिया जाता है। हालांकि यहां के नागरिकों को मूल वेतन का 12.5 फीसदी और सरकारी कर्मचारियों के वेतन का 15 फीसदी जमा किया जाता है।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Leave A Reply

Your email address will not be published.