UPI New Rule: आज के समय भारत कैशलेस हो रहा है। सभी UPI से पेमेंट कर रहे है। अगर आप भी उन लोगों में से हैं जो मार्केट में यूनिफाइड पेमेंट इंटरफेस (UPI) से पेमेंट करते हैं तो आपके लिए अच्छी खबर है। रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने हाल ही में यूपीआई पर रुपे क्रेडिट कार्ड के यूज़ पर ₹2000 तक के लेन-देन पर किसी भी प्रकार की फीस नहीं लेने का फैसला किया है। आरबीआई की तरफ से हाल ही में जारी किए गए सर्कुलर में ऐसा निर्देश दिया गया है।

यह भी पढ़ें:-SBI ने ग्राहकों को दिया फेस्टिवल ऑफर, सुनकर खुश हो जाएंगे आप

लागू हुआ नियम

आपको पता होगा कि रुपे क्रेडिट कार्ड पिछले 4 साल से भारत में प्रयोग किया जा रहा है। देश के सभी बैंक यूपीआई से जुड़े हुए हैं। आरबीआई ने इसी को देखते हुए मंगलवार को एक सर्कुलर जारी करते हुए कहा कि ऐप पर क्रेडिट कार्ड को जोड़ने और यूपीआई पिन बनाने और किसी भी प्रकार के लेनदेन की पूरे प्रक्रिया में ग्राहक की सहमति लेना आवश्यक है।

2 हजार से कम की लेन देन पर लागू

एनपीसीआई ने कहा है कि अंतरराष्ट्रीय लेनदेन के लिए ऐप में मौजूद क्रेडिट कार्ड प्रक्रिया पर भी लागू किया जाएगा इसमें यह भी कहा गया है कि इस कैटेगरी के लिए 0 मर्चेंट रियायती दर ₹2000 से कम की राशि के लेनदेन पर लागू किया जाएगा।

आरबीआई के तरफ से दी गई जानकारी से पता चला है कि सर्कुलर को जारी किए गए तारीख से ही लागू कर दिया जाएगा। यानी कि 4 अक्टूबर 2022 से यह नियम लागू हो चुका है। आरबीआई ने भी अपने सदस्यों से अनुरोध करते हुए कहा है कि इस पर ध्यान दें और इस परिपत्र की सामग्री को संबंधित धारको तक पहुंचाएं।

रिजर्व बैंक के डिप्टी गवर्नर टी रविशंकर ने पहले ही कहा था कि क्रेडिट कार्ड को यूपीए से जोड़ने का मकसद ग्राहकों के भुगतान को एक स्टेप ऊपर ले जाना है। वर्तमान में यूपीआई डेबिट कार्ड के माध्यम से सेविंग और करंट अकाउंट से जुड़ा हुआ है।


Latest News