नई दिल्ली: Fixed Deposit Rules: अगर अपने बैंक में एफडी (Bank FD) करा रखी है या फिर फिक्सड डिपॉजिट (fixed deposit) कराने का विचार है तो आरबीआई (RBI) की तरफ से काफी जरूरी जानकारी दी गई है। दरअसल रिज़र्व बैंक ने एफडी के नियमों (RBI FD rules) में बड़ा बदलाव किया है। नए नियम प्रभावी भी हो गए हैं। ऐसे में आप निवेश करने से पहले आरबीआई के नए नियमों के बारे में जान लें ताकि कोई नुकसान न हो।

आरबीआई ने दी जानकारी

आपको बता दें कि रिज़र्व के रेपो रेट्स बढ़ाने के बाद बैंकों ने भी एफडी की ब्याज दरों में इजाफा करना शुरू कर दिया है। इसके बाद आरबीआई ने एफडी के नियमों में बदलाव कर दिया है।

जानें क्या है नए नियम?

रिज़र्व बैंक के अनुसार, अगर अब मैच्योरिटी पूरी होने के बाद भी आप अपनी अमाउंट को क्लेम नहीं करते हैं तो उसपर आपको कम ब्याज दिया जाएगा। यानी इससे आपका नुकसान होगा। जानकारी के लिए बता दें कि यह ब्याज बचत खाते पर मिलने वाले से ब्याज से कम होगा।

रिजर्व बैंक ने बताया क्यों बदले नियम

रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया की तरफ से दी गई जानकारी के मुताबिक, अगर आपकी एफडी मैच्योर हो गई है और किसी भी रकम के भुगतान के बारे में नहीं कहा जाता है तो उस पर बचत खाते के हिसाब से ही ब्याज मिलेगा या फिर एफडी पर निर्धारित ब्याज इन दोनों में से जो कम होगा उसके हिसाब से ब्याज का लाभ मिलेगा।

सभी बैंकों पर लागू हुए ये नियम

आपको जानकारी के लिए बता दें कि ये नियम सभी वाणिज्यिक बैंकों, लघु वित्त बैंकों, सहकारी बैंकों, स्थानीय क्षेत्रीय बैंकों में जमा राशि पर लागू होंगे।

उदाहरण से समझिए

मान लीजिए आपने 5 साल की अवधि वाली एफडी कराई है जो आज मैच्योर हो गई है, पर आप आज इस पैसे को नहीं निकालते हैं तो ऐसे में आपकी एफडी पर मिल रहे ब्याज और बचत खाते पर दिए जा रहे ब्याज की राशि दोनों में से जो भी कम होगा उस हिसाब से आपको ब्याज का लाभ मिलेगा।

अभी क्या थे नियम?

अभी तक एफडी मैच्योर होने के बाद में अगर आप क्लेम नहीं करते हैं तो उसके बाद बैंक एफडी को उतनी ही अवधि के लिए आगे बढ़ा देता था आपने जितने समय के लिए डिपॉजिट कराया था, पर अब ऐसा नहीं होगा। अब आपको  मैच्योरिटी के तुरंत बाद ही पैसा निकालना होगा।


Latest News