नई दिल्ली: हर घर की जरुरत यानी खाने का तेल से लेकर सोयाबीन समेत कई तेल में गिरावट देखने को मिल रही है, जिससे लोगों की बंपर सेविंस होने वाली है। तो वही आज फिर से लोगों को राहत मिलने की उम्मीद की जा रही है। आप को बता दें कि लेटेस्ट मीडिया रिपोर्ट में दावा किया जा रहा है कि ग्लोबल मार्केट में तेजी के बीच में देश के घरेलू बाजार में तेल-तिलहन की कीमतों में गिरावट देखने को मिल रही है। तो वही आज सोयाबीन समेत कई तेल की कीमतों में गिरावट आई है।

आप को बता दें कि ग्लोबल स्तर पर चल रही उथल-पुथल के बीच में कई प्रोडक्ट के कीमतें में तेजी से उतार-चड़ाव आ रही है, जिसमें तेल-तिलहन भी अछूता नही है। तो वही घरेलू बाजार में तेल-तिलहन की कीमतों में गिरावट हो रही है।आज सोयाबीन समेत कई तेल की कीमतों में गिरावट आई है।

खबरों में बताया जा रहा है कि सूरजमुखी और सोयाबीन डीगम तेल की आपूर्ति कम होने की वजह से यह लगभग 10 फीसदी ऊपर के लेवल पर बिक रहा है। इससे किसानों को फायदा होगा क्योंकि उनके तिलहन के अच्छे दाम मिलेंगे, आपूर्ति बढ़ने से उपभोक्ताओं को फायदा होगा। वही कीम

 देखें आज क्या रहा तेल का भाव-

  • सरसों तिलहन – 7,300-7,350 (42 प्रतिशत कंडीशन का भाव) रुपये प्रति क्विंटल
  • सरसों तेल दादरी- 14,850 रुपये प्रति क्विंटल
  • सरसों पक्की घानी- 2,250-2,380 रुपये प्रति टिन
  • सरसों कच्ची घानी- 2,310-2,435 रुपये प्रति टिन
  • मूंगफली – 6,585-6,645 रुपये प्रति क्विंटल
  •  मूंगफली तेल मिल डिलिवरी (गुजरात) – 15,100 रुपये प्रति क्विंटल
  • मूंगफली रिफाइंड तेल 2,445-2,705 रुपये प्रति टिन
  • तिल तेल मिल डिलिवरी – 18,900-21,000 रुपये प्रति क्विंटल
  • सोयाबीन तेल मिल डिलिवरी दिल्ली- 14,200 रुपये प्रति क्विंटल
  • पामोलिन आरबीडी, दिल्ली- 10,300 रुपये प्रति क्विंटल
  •  सोयाबीन मिल डिलिवरी इंदौर- 13,800 रुपये प्रति क्विंटल
  • सोयाबीन तेल डीगम, कांडला- 12,750 रुपये प्रति क्विंटल
  • सीपीओ एक्स-कांडला- 8,550 रुपये प्रति क्विंटल

बता दें कि देश में आयात होने चीजों से देशी मुद्रा घटती है, तो ऐसे में जानकारों का कहना है कि खाद्य तेलों के लिए आयात पर बढ़ती निर्भरता और इसके लिए भारी मात्रा में विदेशी मुद्रा के खर्च के जाल से निकलने की जरूरत है। जिससे किसानों को लाभकारी कीमत देकर देश में तिलहन उत्पादन बढ़ाना ही है।


Latest News