Times Bull
News in Hindi

सिंहस्थ महाकुंभ : जानिए हिंदू साधू-संतो के 13 प्रमुख अखाड़ों की खास बातें

Simhastha Ujjain : 13 Major akharas of Hindu sants and sadhus – 22 अप्रैल से मध्य प्रदेश के उज्जैन नगर में दुनिया का सबसे बड़ा धार्मिक मेला सिंहस्थ महाकुंभ आयोजित होने वाला है। इस मेले की खासियत यहां आने वाले विभिन्न अखाड़ों के साधु-संत होंगे। मुख्य तौर पर 13 अखाड़े मान्यता प्राप्त हैं। इनमें से 7 शैव, 3 वैष्णव व 3 उदासीन अखाड़े हैं। ऊपर से देखने पर ये अखाड़े एक जैसे लगते हैं, लेकिन इनकी परंपरा, पूजा पद्धति आदि में कुछ न कुछ भिन्न जरूर है। आज हम आपको बता रहे हैं इन अखाड़ों से जुड़ी कुछ ऐसी रोचक बातें जो बहुत कम लोग जानते हैं-

जूना अखाड़ा –
मान्यता के अनुसार, यह सबसे पुराना अखाड़ा है। इसीलिए इसे जूना (पुराना) नाम दिया गया है। वर्तमान में सबसे ज्यादा महामंडलेश्वर (275) इसी अखाड़े के है। इनमें विदेशी व महिला महामंडलेश्वर भी शामिल है।

अटल अखाड़ा –
इस अखाडे में सिर्फ ब्राह्मण, क्षत्रिय और वैश्य को दीक्षा दी जाती है। अन्य वर्गों को इस अखाड़े में शामिल नहीं किया जाता।

आवहन अखाड़ा –
अन्य अखाड़ों में महिला साध्वियों को भी दीक्षा दी जाती है, लेकिन आवाहन में महिला साध्वियों की कोई परम्परा नहीं है।

निरंजनी अखाड़ा –
इस अखाड़े में लगभग 50 महामंडलेश्वर है। सबसे ज्यादा उच्च शिक्षित महामंडलेश्वर इसी अखाड़े में है।

अग्नि अखाड़ा –
इस अखाड़े में सिर्फ ब्राह्मणों को ही दीक्षा दी जाती है। ब्राह्मण के साथ उनका ब्रह्मचारी होना भी आवश्यक है।

महानिर्वाणी अखाड़ा –
महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग की पूजा का जिम्मा इसी अखाड़े के पास है। यह परम्परा अनेक वर्षों से चली आ रही है।

आनंद अखाडा –
इस शैव अखाड़े में आज तक एक भी महामंडलेश्वर नहीं बनाया गया है। इस अखाड़े में आचार्य का पद प्रमुख होता है।

दिगंबर अणि अखाड़ा –
इस अखाड़े में सबसे ज्यादा खालसा (431) हैं। वैष्णव संप्रदाय के अखाड़ों में इसे राजा कहा जाता है।

निर्मोही अणि अखाड़ा –
वैष्णव सम्प्रदाय के तीनों अणि अखाड़ों में से इसी में सबसे ज्यादा अखाड़े शामिल हैं। इनकी संख्या 9 है।

निर्वाणी अणि अखाड़ा –
इस अखाड़े के कई संत प्रोफेशनल पहलवान रह चुके हैं। कुश्ती इस अखाड़े के जीवन का एक हिस्सा है।

बड़ा उदासीन अखाड़ा –
इस अखाड़े का उद्देश्य सेवा करना है। इस अखाड़े में 4 महंत होते हैं, जो कभी रिटायर नहीं होते है।

नया उदासीन अखाड़ा –
इस अखाड़े में उन्हीं को नागा बनाया जाता है, जिनकी दाड़ी-मूंछ न निकली हो यानी 8 से 12 साल तक के।

निर्मल अखाड़ा –
इस अखाड़ें में धूम्रपान पर पूरी तरह पाबंदी है। इस अखाड़े के सभी केंद्रों के गेट पर इसकी सूचना लिखी रहती है।

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.