Rashifal in hindi : जानिए अपना राशिफल और अपनी राशि के अनुसार करें ये उपाय

Rashifal in hindi : जानिए अपना राशिफल और अपनी राशि के अनुसार करें ये उपाय

मेष राशिफल | Aaj ka Mesh rashifal : मेष राशि ज्योतिषचक्र की प्रथम राशि है। इस राशि के जातक लगातार गतिशील, तेज,ऊर्जावान और उग्र शुरुआत करने वाले होते हैं। ये लोग हर कार्य में अग्रणी रहते हैं। इस राशि को स्वामी मंगल है इसलिए मेष राशि सबसे सक्रिय राशियों में शामिल होती है। इस राशि के जातक व्यक्तिगत और आध्यात्मिक प्रश्नों के उत्तर की खोज पर जोर देने के लिए बने हैं। सिंह और धनु की तरह ही मेष भी एक अग्नि राशि है। इसका मतलब यह है कि कभी कभी कार्रवाई करने के बारे में पूरी तरह से सोचने से पहले इसे करना उनके स्वभाव में शामिल होता है। मार्च माह में जातकों को अपनी योग्यतानुसार काम प्राप्त होगा एवं नए मकान खरीदने संबंधी योजना बन सकती है। विरोधी शांत रहेंगे।

  1. नौकरी और व्यवसाय: मेष राशि के लोग सबसे अधिक चमकदार प्रभाव छोड़ने वाले होते हैं। इस राशि के जातकों में भविष्यवाणी करने की उत्कृष्ट क्षमता होती है, जो हमेशा उनको दूसरों से एक कदम आगे रखती है। इस राशि के लोगों को अपनी मंजिल पाने के लिए केवल अपने द्वारा चुने गए मार्ग पर चलने की आवश्यकता है। एक चुनौती से सामना होने पर, मेष राशि के जातक जल्दी से स्थिति का आकलन करते हुए एक समाधान निकाल लेते हैं। इस राशि के जातक बिक्री एजेंट, डीलर, प्रबंधक, संचालक और कंपनी के मालिक के रूप में उनका भव्य करियर बना सकते हैं।
  2. प्यार और स्नेह: मेष राशि के जातक प्रेम संबंध को तरजीह देते हैं। इस राशि के लोग जब किसी से प्यार करते है तो वे सामने वाले के बारे बिना कोई सोच विचार के अपने प्रेम का इजहार कर देते हैं। मेष के जातकों को रोमांच बहुत पसंद होता है। मेष राशि के जातक अपनी प्रेमिका से बहुत रोमांटिक तरीके से अपने प्रपोज करते हैं। मेष राशि के जातक भावुक प्रेमी होते हैं।
  3. सेहत और परिवार: मेष राशि के जातकों को अपनी सेहत को लेकर काफी सावधान रहने की जरूरत है। इन लोगों को पेट संबंधित परेशानी का सामना करना पड़ सकता है। साथ ही परिवार की किसी सदस्य की बीमारी भी आपकी टेंशन को और बढ़ा सकती है। फास्ट फूड का परहेज इनके लिए लाभदायक रहेगा। कुछ खास काम परिवार की मदद से पूरे होने के याेग बन रहे हैं। अपनी कोई बात कहते समय थोड़ी सावधानी बरतें।
  4. मेष राशि वाले इस भगवान की करें पूजा: मेष राशि के जातकों के लिए सूर्यपुत्र बजरंग बली की पूजा करनी चाहिए। हनुमान जी कृपा दृष्टि से इनके सभी बिगड़े काम आसानी से बन जाएंगे। इस राशि के जातक हनुमान जी की पूजा में लाल फूलों का इस्तेमाल जरूर करें।
  5. मेष राशि के जातक करें ये उपाय: मेष राशि के जातक अपने उपर आई बाधा दूर करने के लिए ये उपाय जरूर करें।
  • किसी माता के मंदिर में जाकर अनार के फल का दान करें।
  • कुत्तों को मीठी पुड़ी खिलाएं।
  • किसी गरीब को मसुर की दाल दान करें।

मेष राशि

तत्व: अग्नि

गुणवत्ता: मूल

रंग: लाल

दिन: मंगलवार

स्वामी: मंगल

सबसे बड़ी समग्र संगतता: सिंह, धनु

विवाह और भागीदारी के लिए उत्तम: तुला

भाग्य अंक: 1, 9


Taurus Rashifal in hindi : वॄष राशि राशिफल चक्र की यह दूसरी राशि है, इस राशि का चिन्ह ’बैल’ है, बैल स्वभाव से ही अधिक पारिश्रमी और बहुत अधिक वीर्यवान होता है, साधारणत: वह शांत रहता है, किन्तु क्रोध आने पर वह उग्र रूप धारण कर लेता है। यह स्वभाव वॄष राशि के जातक में भी पाया जाता है, वॄष राशि का विस्तार राशि चक्र के 30 अंश से 60 अंश के बीच पाया जाता है, इसका स्वामी शुक्र ग्रह है। इसके तीन देष्काणों में उनके स्वामी ’शुक्र-शुक्र”, शुक्र-बुध’, और शुक्र-शनि, हैं। इसके अन्तर्गत कॄत्तिका नक्षत्र के तीन चरण,रोहिणी के चारों चरण, और मॄगसिरा के प्रथम दो चरण आते हैं। इन चरणों के स्वामी कॄत्तिका के द्वितीय चरण के स्वामी सूर्य-शनि, तॄतीय चरण के स्वामी चन्द्रमा-शनि, चतुर्थ चरण के स्वामी सूर्य-गुरु, हैं। रोहिणी नक्षत्र के प्रथम चरण के स्वामी चन्द्रमा-मंगल, दूसरे चरण के स्वामी चन्द्रमा-शुक्र, तीसरे चरण के स्वामी चन्द्रमा-बुध, चौथे चरण के स्वामी चन्द्रमा-चन्द्रमा, है। मॄगसिरा नक्षत्र के पहले चरण के मालिक मंगल-सूर्य, और दूसरे चरण के मालिक मंगल-बुध है।

नौकरी और व्यवसाय: इस राशि के जातको में धन कमाने की प्रवॄति और धन को जमा करने की बहुत इच्छा होती है, धन की राशि होने के कारण अक्सर ऐसे जातक खुद को ही धन के प्रयुक्त करते हैं, बुध की प्रबलता होने के कारण जमा योजनाओं में उनको विश्वास होता है, इस राशि के लोग लेखाकारी, अभिनेता, निर्माता, निर्देशक, कलाकार, सजावट कर्ता, सौन्दर्य प्रसाधन का कार्य करने वाले, प्रसाधन सामग्री के निर्माण कर्ता, आभूषण निर्माण कर्ता, और आभूषण का व्यवसाय करने वाले, विलासी जीवन के साधनो को बनाकर या व्यापार करने के बाद कमाने वाले, खाद्य सामग्री के निर्माण कर्ता, आदि काम मिलते हैं। नौकरी में सरकारी कर्मचारी, सेना या नौसेना में उच्च पद, और चेहरे आदि तथा चेहरा सम्भालने वाले भी होते हैं। धन से धन कमाने के मामले में बहुत ही भाग्यवान माने जाते हैं।

प्यार और स्नेह: वृष राशि वाले जातक शांति पूर्वक रहना पसंद करते हैं, उनको जीवन में परिवर्तन से चिढ सी होती है, इस राशि के जातक अपने को बार बार अलग माहौल में रहना अच्छा नहीं लगता है। इस प्रकार के लोग सामाजिक होते हैं और अपने से उच्च लोगों को आदर की नजर से देखते है। जो भी इनको प्रिय होते हैं उनको यह आदर खूब ही देते हैं, और सत्कार करने में हमेशा आगे ही रहते है। सुखी और विलासी जीवन जीना पसंद करते हैं।

सेहत और परिवार: वॄष राशि वालो के लिये अपने ही अन्दर डूबे रहने की और आलस की आदत के अलावा और कोई बडी बीमारी नहीं होती है, इनमे शारीरिक अक्षमता की आदत नहीं होती है, इनके अन्दर टांसिल, डिप्थीरिया, पायरिया, जैसे मुँह और गले के रोग होते हैं, जब तक इनके दांत ठीक होते है, यह लोग आराम से जीवन को निकालते हैं, और दांत खराब होते ही इनका जीवन समाप्ति की ओर जाने लगता है। बुढापे में जलोदर और लकवा वाले रोग भी पीछे पड जाते है।

वॄष राशि वाले इस भगवान की करें पूजा: शिव जी की पूजा करें

वॄष राशि के जातक करें ये उपाय:

  • लक्ष्मी जी को गुलाब का इत्र चढ़ाएं।
  • सफेद कपड़ों का दान करें।
  • किसी मंदिर में खीर का भोग लगाएं।
  • किसी भी मंदिर में घी या रूई दान करें।
  • विपरीत लिंग वाले लोगों को कपड़े दान करें।

राशि चिह्न : सांड

तत्व: अग्नि

गुणवत्ता: मूल

रंग: लाल

दिन: मंगलवार

स्वामी: मंगल

सबसे बड़ी समग्र संगतता: सिंह, धनु

विवाह और भागीदारी के लिए उत्तम: तुला

भाग्य अंक: 1, 9


Gemini Rashifal in hindi : मिथुन राशि ज्यौतिष के राशिचक्र में की तृतीय राशी है। इसका उद्भव मिथुन तारामंडल से माना जाता है। अग्नि राशि से संबंधित होने के कारण मेष राशि वाले जातक प्रेम पसंद करते हैं और वे प्रेम संबंध में पहल करेंगे। मेष लगातार गतिशील रहते हैं, इसलिए इस राशि के लिए गतिविधि मुख्य शब्द है। इस एक क्षेत्र में मेष राशि के लोग सबसे अधिक चमकदार प्रभाव छोड़ते है। महत्त्वाकांक्षी और रचनात्मक मेष के लिए काम का माहौल एकदम उपयुक्त स्थान है, जो अक्सर सबसे बेहतर संभव होने की जरूरत द्वारा संचालित हैं।

नौकरी और व्यवसाय: इस एक क्षेत्र में मेष राशि के लोग सबसे अधिक चमकदार प्रभाव छोड़ते है। महत्त्वाकांक्षी और रचनात्मक मेष के लिए काम का माहौल एकदम उपयुक्त स्थान है, जो अक्सर सबसे बेहतर संभव होने की जरूरत द्वारा संचालित हैं। जन्मजात नेता, मेष आदेश प्राप्त करने के बजाय उन्हें जारी करना पसंद करेंगे। भविष्यवाणी करने की उनमें एक उत्कृष्ट क्षमता होती है, जो उन्हें हमेशा एक कदम आगे रखती है और सब कुछ व्यवस्थित करती है। उन्हें केवल अपने चुने हुए मार्ग का अनुसरण करने की ज़रूरत है। एक चुनौती से सामना होने पर, मेष राशि के जातक जल्दी से स्थिति का आकलन करते हुए एक समाधान निकाल लेंगे। प्रतियोगिता से उन्हें परेशानी नहीं होती, बस उन्हें और ज्यादा चमकने के लिए प्रोत्साहित करती है। बिक्री एजेंट, डीलर, प्रबंधक, संचालक और कंपनी के मालिक के रूप में उनका भव्य करियर हो सकता है।

हालांकि, मेष राशि के लोग समझदार होते है और कठिन दिनों के लिए कुछ पैसे बचा सकते हैं, अक्सर यह मामला नहीं है। इसका कारण यह है कि मेष राशि के लोगों को शॉपिंग, जुआ और व्यापार पर पैसा खर्च करने में आनंद मिलता है। मेष राशि वर्तमान में रहते हैं और भविष्य पर ध्यान केंद्रित नहीं करते। उनका दर्शन है, हमें वर्तमान में जीना चाहिए। मेष राशि के लिए पैसे की कमी दुर्लभ है, क्योंकि उन्हें काम करना पसंद है।

प्यार और स्नेह: मेष लगातार गतिशील रहते हैं, इसलिए इस राशि के लिए गतिविधि मुख्य शब्द है। जब मित्रों की बात आती है, जितने अधिक भिन्न मित्र हो बेहतर है। अपने मित्रों के चक्र को बंद करने के क्रम में उन्हें विभिन्न हस्तियों की एक श्रृंखला की जरूरत होती है। इस तथ्य की वजह से कि इस राशि में पैदा हुए लोग आसानी से संवाद शुरू कर लेते हैं, जीवन में आगे बढ़ते हुए संबंधों और परिचितों की एक अविश्वसनीय संख्या प्राप्त करते हैं। फिर भी लंबे समय तक और असली मित्र पूरी तरह से अलग होते हैं। केवल ऐसे लोग उनके साथ रहेंगे जो ऊर्जावान हैं, और लंबे समय तक साथ चलने के लिए इच्छुक हैं।

स्वतंत्र और महत्वाकांक्षी, मेष जाने की आवश्यक दिशा को शीघ्र ही निर्धारित कर सकते हैं। हालांकि, वे अपने परिवार के साथ अक्सर संपर्क में नहीं रहते हैं, लेकिन वे उनके दिल में हमेशा होते हैं। आप हमेशा मेष राशि से एक सीधे और ईमानदार दृष्टिकोण की उम्मीद कर सकते हैं, तब भी जब वे अपनी भावनाओं को व्यक्त कर रहे होते हैं। अग्नि राशि से संबंधित होने के कारण मेष राशि वाले जातक प्रेम पसंद करते हैं और वे प्रेम संबंध में पहल करेंगे। जब मेष राशि के जातक प्यार में पड़ जाते हैं, तो बिना कोई सोच विचार किये वे सीधे उनके पास जा कर अपने प्यार को व्यक्त कर देते हैं। प्यार में मेष राशि के जातक अपनी प्रेमिका पर उदार स्नेह, कभी-कभी अतिरिक्त स्नेह की बौछार भी कर सकते हैं। वे बहुत ऊर्जावान, भावुक होते हैं और उन्हें रोमांच पसंद है। मेष राशि के जातक भावुक प्रेमी होते हैं वे इसके बारे में विचार मात्र से उत्साहित हो सकते हैं। जब तक अत्यधिक एड्रेनालीन और उत्साह है, मेष राशि जातक के साथ रिश्ता मजबूत और लंबे समय तक चल सकता है।

सेहत और परिवार: आपको उदर सम्बन्धी रोग हो सकते हैं और आपका पाचन तंत्र भी गड़बड़ हो सकता है। व्यर्थ की यात्राएं होने के योग बन रहे हैं। आप या आपके जीवनसाथी का स्वास्थ्य बिगड़ सकता है, जो कि आंतरिक रूप से गंभीर हो सकता है और इलाज मुश्किल हो सकता है।

मेष राशि वाले इस भगवान की करें पूजा: हनुमान जी की पूजा करें

मेष राशि के जातक करें ये उपाय:

  • इनकी सबसे बड़ी समस्या मन की चंचलता है.
  • हनुमान जी की उपासना से लाभ होगा.
  • पूजा में लाल फूलों का इस्तेमाल जरूर करना चाहिए.
  • गाय को हरी सब्जी खिलाएं।
  • किन्नरों को सुपारी खिलाएं।
  • पीसा धनिया घी में सेक के दूध के साथ खाएं।

राशि चिह्न जुड़वां

तत्व: अग्नि

गुणवत्ता: मूल

रंग: लाल

दिन: मंगलवार

स्वामी: मंगल

सबसे बड़ी समग्र संगतता: सिंह, धनु

विवाह और भागीदारी के लिए उत्तम: तुला

भाग्य अंक: 1, 9

शुभ अंक : 15


Cancer Rashifal in hindi : कर्क राशि राशिफल की यह चौथी राशि है, यह उत्तर दिशा की द्योतक है, तथा जल त्रिकोण की पहली राशि है, इसका चिन्ह केकडा है, यह चर राशि है, इसका विस्तार चक्र 90 से 120 अंश के अन्दर पाया जाता है, इस राशि का स्वामी चन्द्रमा है, इसके तीन द्रेष्काणों के स्वामी चन्द्रमा, मंगल और गुरु हैं, इसके अन्तर्गत पुनर्वसु नक्षत्र का अन्तिम चरण, पुष्य नक्षत्र के चारों चरण तथा अश्लेशा नक्षत्र के चारों चरण आते हैं। जिन जातकों के जन्म समय में निरयण चन्द्रमा कर्क राशि में संचरण कर रहा होता है, उनकी जन्म राशि कर्क मानी जाती है, जन्म के समय लगन कर्क राशि के अन्दर होने से भी कर्क का ही प्रभाव मिलता है, कर्क लगन मे जन्म लेने वाला जातक श्रेष्ठ बुद्धि वाला, जलविहारी, कामुक, कॄतज्ञ, ज्योतिषी, सुगंधित पदार्थों का सेवी और भोगी होता है, उसे शानो शौकत से रहना पसंद होता है, वो असाधरण प्रतिभा से अठखेलियां करता है, तथा उत्कॄष्ट आदर्श वादी, सचेतक और निष्ठावान होता है, उसके रोम रोम में मातॄ-भक्ति भरी रहती है।

नौकरी और व्यवसाय: कर्क जातक बडी बडी योजनाओं का सपना देखने वाले होते हैं, परिश्रमी और उद्यमी होते हैंउनको प्राय: अप्रत्यासित सूत्र या विचित्र साधनों से और अजनबियों के संपर्क में आने से आर्थिक लाभ होता है, कुच अन्य आर्थिक क्षेत्र जिनमे वो सफ़ल हो सकते है, उअन्के अन्दर जैसे दवाओं और द्रव्यों का आयात, अन्वेशण और खोज, भूमि या खानों का विकास, रेस्टोरेन्ट, जल से प्राप्त होने वाली वस्तुओं और दुग्ध पदार्थ आदि, वे जन उपयोगी बडी बडी कम्पनियों में धन लगाना भी उनके लिये लाभदायक रहता है।

प्यार और स्नेह: कर्क जातकों की प्रवॄति और स्वभाव समझने के लिये हमें कर्क के एक विशेष गुण की आवश्य ध्यान देना होगा, कर्क केकडा जब किसी वस्तु या जीव को अपने पंजों के जकड लेता है, तो उसे आसानी से नही छोडता है, भले ही इसके लिये उसे अपने पंजे गंवाने पडें. कर्क जातकों में अपने प्रेम पात्रों तथा विचारोम से चिपके रहने की प्रबल भावना होती है, यह भावना उन्हें ग्रहणशील, एकाग्रता और धैर्य के गुण प्रदान करती है, उनका मूड बदलते देर नही लगती है, उनके अन्दर अपार कल्पना शक्ति होती है, उनकी स्मरण शक्ति बहुत तीव्र होती है, अतीत का उनके लिये भारी महत्व होता है, कर्क जातकों को अपने परिवार में विशेषकर पत्नी तथा पुत्र के के प्रति प्रबल मोह होता है, उनके बिना उनका जीवन अधूरा रहता है, मैत्री को वे जीवन भर निभाना जानते हैं, अपनी इच्छा के स्वामी होते हैं, तथा खुद पर किसी भी प्रकार का अंकुश थोपा जाना सहन नहीं करते, ऊंचे पदों पर पहुंचते हैं और भारी यश प्राप्त करते हैं, वो उत्तम कलाकार, लेखक, संगीतज्ञ, या नाटककार बनते हैं, कुछ व्यापारी या उत्तम मनोविश्लेषक बनते हैं, अपनी गुप्त विद्याओं धर्म या किसी असाधारण जीवन दर्शन में वो गहरी दिलचस्पी पैदा कर लेते हैं।

सेहत और परिवार: कर्क जातक बचपन में प्राय: दुर्बल होते हैं, किन्तु आयु के साथ साथ उनके शरीर का विकास होता जाता है, चूंकि कर्क कालपुरुष की वक्षस्थल और पेट का प्रतिधिनित्व करती है, अत: कर्क जातकों को अपने भोजन पर विशेष ध्यान देने की आवश्यकता है, अधिक कल्पना शक्ति के कारण कर्क जातक सपनों के जाल बुनते रहते हैं, जिसका उनके स्वास्थ्य पर प्रतिकूल प्रभाव पडता है, उन्हें फ़ेफ़डों के रोग, फ़्लू, खांसी, दमा, श्वास रोग, प्लूरिसी और क्षय रोग भी होते हैं, उदर रोग और स्नावयिक दुरबलता, भय की भावना, मिर्गी, पीलिया, कैंसर और गठिया रोग भी होते देखे गये है।

कर्क राशि वाले इस भगवान की करें पूजा: शिवजी की पूजा करें

कर्क राशि के जातक करें ये उपाय:

  • शिवजी को दूध अर्पित करें।
  • अपने पास चांदी का सिक्का रखें।
  • किसी भी कन्या को मिठाई दान करें।
  • इनकी सबसे बड़ी समस्या है ज्यादा भावनात्मक होना
  • शिव जी की उपासना करना शुभ होगा
  • पूजा में शंख का प्रयोग करें, इसे जरूर बजाएं

तत्व: जल

गुणवत्ता: मूल

रंग: नारंगी, सफेद

दिन: सोमवार, गुरुवार

स्वामी: चंद्र

सबसे बड़ी समग्र संगतता: वृश्चिक, मीन

विवाह और भागीदारी के लिए उत्तम: मकर

भाग्य अंक: 2, 7, 11, 16, 20, 25


Leo Rashifal in hindi : सिंह राशि राशिफल चक्र की पाचवीं राशि है। और पूर्व दिशा की द्योतक है। इसका चिन्ह शेर है। इसका विस्तार राशि चक्र के 120 अंश से 150 अंश तक है।सिंह राशि का स्वामी सूर्य है, और इस राशि का तत्व अग्नि है। इसके तीन द्रेष्काण और उनके स्वामी सूर्य,गुरु, और मंगल, हैं। इसके अन्तर्गत मघा नक्षत्र के चारों चरण,पूर्वाफ़ाल्गुनी के चारों चरण, और उत्तराफ़ाल्गुनी का पहला चरण आता है। यह बहुत शक्तिशाली है।

जिन व्यक्तियों के जन्म समय में चन्द्रमा सिंह लगन मे होता है, वे सिंह राशि के जातक कहलाते हैं, जो इस लगन में पैदा होते हैं वे भी इस राशि के प्रभाव में होते है।पांडु मिट्टी के रंग वाले जातक,पित्त और वायु विकार से परेशान रहने वाले लोग, रसीली वस्तुओं को पसंद करने वाले होते हैं, कम भोजन करना और खूब घूमना, इनकी आदत होती है, छाती बडी होने के कारण इनमें हिम्मत बहुत अधिक होती है और मौका आने पर यह लोग जान पर खेलने से भी नही चूकते।इस लगन में जन्म लेने वाला जातक जीवन के पहले दौर में सुखी, दूसरे में दुखी और अन्तिम अवस्था में पूर्ण सुखी होता है।

नौकरी और व्यवसाय: इस राशि वाले जातक कठोर मेहनत करने के आदी होते हैं, और राशि के प्रभाव से धन के मामलों में बहुत ही भाग्यशाली होते हैं, पंचम राशि का प्रभाव कालपुरुष की कुन्डली के अनुसार इनको तुरत धन वाले क्षेत्रों में भेजता है, और समय पर इनके द्वारा किये गये पूर्व कामों के अनुसार ईश्वर इनको इनकी जरूरत का चैक भेज देता है। इस राशि वाले जातक जो भी काम करते हैं वे दूसरों को अस्मन्जस में डाल देने वाले होते है, लोग इनके कामों को देखकर आश्चर्य में पड़ जाते हैं। स्वर्ण, पीतल, और हीरा जवाहरात के व्यवसाय इनको बहुत फ़ायदा देने वाले होते हैं,सरकार जैसे और राजाओं जैसे ज़िन्दगी जीने का शौक रखते हैं|

प्यार और स्नेह: सिंह राशि शाही राशि मानी जा्ती है, सोचना शाही, करना शाही, खाना शाही, और रहना शाही, इस राशि वाले लोग जुबान के पक्के होते हैं, उनके अन्दर छछोडपन वाली बात नही होती है, अपनी मर्यादा में रहना, और जो भी पहले से चलता आया है, उसे ही सामने रख कर अपने जीवन को चलाना, इस राशि वाले व्यक्ति से सीखा जा सकता है। सिह राशि वाला जातक जब किसी के घर जायेगा, तो वह किसी के द्वारा दिये जाने वाले आसन की आशा नही करेगा, वह जहां भी उचित और अपने लायक आसन देखेगा, जाकर बैठ जायेगा, वह जो खाता है वही खायेगा, अन्यथा भूखा रहना पसंद करेगा, वह आदेश देना जानता है, किसी का आदेश उसे सहन नही है, जिस किसी से प्रेम करेगा, उसके मरते दम तक निभायेगा, जीवन साथी के प्रति अपने को पूर्ण रूप से समर्पित रखेगा, अपने व्यक्तिगत जीवन में किसी का आना इस राशि वाले को कतई पसंद नही है, और सबसे अधिक अपने जीवन साथी के बारे में वह किसी का दखल पसंद नही कर सकता है ।

सेहत और परिवार: इस राशि के जातकों की वाणी और चाल में शालीनता पायी जाती है। इस राशि वाले जातक सुगठित शरीर के मालिक होते हैं |अधिकतर इस राशि वाले या तो बिलकुल स्वस्थ रहते है, या फ़िर आजीवन बीमार रहते हैं, जिस वातावरण में इनको रहना चाहिये, अगर वह न मिले, इनके अभिमान को कोई ठेस पहुंचाये, या इनके प्रेम में कोई बाधा आये, तो यह लोग अपने मानसिक कारणों से बीमार रहने लगते है, इनके लिये भदावरी ज्योतिष की यह कहावत पूर्ण रूप से खरी उतरती है, कि मन से तन जुडा है, और जब मन बीमार होगा तो उसका प्रभाव तन पर पडेगा, अधिकतर इस राशि के लोग रीढ की हड्डी की बीमारी या चोटों से अपने जीवन को खतरे में डाल लेते हैं, और इस हड्डी का प्रभाव सम्पूर्ण शरीर पर होने से, चोट अथवा बीमारी से शरीर का वही भाग निष्क्रिय हो जाता है, जिस भाग में रीढ की हड्डी बाधित होती है। वैसे इस राशि के लोगों के लिये ह्रदय रोग,धडकन का तेज होना,लू लगना, और संधिवात ज्वर होना आदि होता है। दाम्पत्य अच्छा रहेगा। जीवन साथी को आपकी कोई बात प्रभावित कर सकती है। ससुराल पक्ष में कोई मांगलिक उत्सव आयोजित हो सकता है। परिवार का माहौल खुशनुमा रहेगा। भाइयों से सहयोग मिलेगा। किसी उत्सव में शामिल हो सकते हैं। संतान से विवाद हो सकता है। माता-पिता की सेहत का ध्यान रखना होगा।

सिंह राशि वाले इस भगवान की करें पूजा: सूर्य देव की पूजा करें

सिंह राशि के जातक करें ये उपाय:

  • सबसे बड़ी समस्या है, जीवन में ज्यादा संघर्ष होना।
  • इसके लिए सूर्य देव की उपासना करें।
  • आपको पूजा में रोली का प्रयोग जरूर करें।
  • रोज सूर्य को जल अर्पित करें।
  • व्यापार स्थान पर गोपाल सहस्रनाम का पाठ कराएं।
  • गरीब या भिखारियों को अन्न का दान करें।

तत्व: अग्नि

गुणवत्ता: स्थिर

रंग: सुनहरा, नारंगी, सफेद, लाल

दिन: रविवार

स्वामी: सूर्य

सबसे बड़ी समग्र संगतता: मेष, धनु

विवाह और भागीदारी के लिए उत्तम: कुंभ

भाग्य अंक: 1, 4, 10, 13, 19, 22


Virgo Rashifal in hindi : कन्या राशि राशिफल चक्र की छठी राशि है। दक्षिण दिशा की द्योतक है। इस राशि का चिह्न हाथ में फ़ूल की डाली लिये कन्या है। इसका विस्तार राशि चक्र के १५० अंशों से १८० अंश तक है। इस राशि का स्वामी बुध है, इस राशि के तीन द्रेष्काणों के स्वामी बुध,शनि और शुक्र हैं। इसके अन्तर्गत उत्तराफ़ाल्गुनी नक्षत्र के दूसरे, तीसरे और चौथे चरण,चित्रा के पहले दो चरण और हस्त नक्षत्र के चारों चरण आते है। उत्तराफ़ाल्गुनी के दूसरे चरण के स्वामी सूर्य और शनि है, जो जातक को उसके द्वारा किये जाने वाले कार्यों के प्रति अधिक महत्वाकांक्षा पैदा करते है, तीसरे चरण के स्वामी भी उपरोक्त होने के कारण दोनो ग्रहों के प्रभाव से घर और बाहर के बंटवारे को जातक के मन में उत्पन्न करती है। चौथा चरण भावना की तरफ़ ले जाता है और जातक दिमाग की अपेक्षा ह्रदय से काम लेना चालू कर देता है। इस राशि के लोग संकोची और शर्मीले प्रभाव के साथ झिझकने वाले देखे जाते है। मकान, जमीन और सेवाओं वाले कार्य ही इनकी समझ में अधिक आते हैं, कर्जा, दुश्मनी और बीमारी के प्रति इनका लगाव और सेवायें देखने को मिलती है। स्वास्थ्य की दृष्टि से फेफड़ों में ठन्ड लगना और पाचन प्रणाली के ठीक न रहने के कारण आंतों में घाव हो जाना, आदि बीमारियाँ इस प्रकार के जातकों में मिलती है।

नौकरी और व्यवसाय: मकान, जमीन और सेवाओं वाले कार्य ही इनकी समझ में अधिक आते हैं,कर्जा,दुश्मनी और बीमारी के प्रति इनका लगाव और सेवायें देखने को मिलती है। कन्या राशि के जातक बहुत व्यावहारिक, विश्लेषणात्मक और परिश्रमी होते हैं, इसलिए उन्हें समस्या की तह तक जाने के बारे में हमेशा पता होगा। वे बहुत व्यवस्थित और बेहतर संगठन की आवश्यकता वाली नौकरियों में अच्छा करते हैं। अगर कोई काम नहीं बन रहा हो जैसा कि होना चाहिए, तो एक कन्या राशि के जातक को काम पर रखो।

जब वे किसी काम पर ध्यान केंद्रित करते हैं, तो पूरी तरह से इसे लागू करने के लिए वे अपना सर्वश्रेष्ठ देंगे। उन्हें पुस्तकों और कला से प्यार है। कन्या राशि के जातक के लिए संभव करियर विकल्प में डॉक्टर, नर्स, मनोवैज्ञानिक, शिक्षक, लेखक और आलोचक शामिल हैं।

कन्या राशि के जातक पैसे के खर्च में बहुत ही अच्छे हैं, क्योंकि वे बहुत सावधान रहते हैं और वे हमेशा ही जितना संभव हो सके बचाने की कोशिश करेंगे। वे अग्रिम में सभी लागत की योजना बना लेते हैं और जब खरीदने की बात आती है वे बहुत ज्यादा खर्च करने के इच्छुक नहीं हैं। हालांकि, समय-समय पर वे खुद के लिए कुछ बढ़िया खरीदना चाहते हैं।

प्यार और स्नेह: कन्या राशि के जातक को उनके सहयोगियों द्वारा वांछनीय महसूस किये जाने की जरूरत है। वे सामरिक और व्यवस्थित होते हैं, जो उन्हें उत्कृष्ट प्रेमी बनाता है। हालांकि, वे प्यार के प्रत्यक्ष विवरण के इच्छुक नहीं हैं, वे निश्चित रूप से बिस्तर में अपनी भावनाओं को प्रदर्शित करेंगे। कन्या कई साथियों की तुलना में दो स्थिर संबंध रखना पसंद करते हैं। वे महसूस करना चाहते हैं कि वे अपने साथी के जीवन की महत्वपूर्ण जरूरत हैं। वे बहुत वफादार और उनके सहयोगियों के लिए समर्पित रहते हैं।

सेहत और परिवार: फ़ेफ़डों में ठन्ड लगना और पाचन प्रणाली के ठीक न रहने के कारण आंतों में घाव हो जाना, आदि बीमारिया इस प्रकार के जातकों में मिलती है। सारावली,भदावरी ज्योतिष सकोची और शर्मीले प्रभाव के साथ झिझकने वाले जातक कन्या राशि के ही देखे जाते है। कन्या राशि के रूप में एक मित्र होना बेहद उपयोगी है। कन्या राशि के जातक उत्कृष्ट सलाहकार हैं और उन्हें वास्तव में एक समस्या को हल करने के बारे में पता है। कन्या राशि के जातक आपको अपनी और अधिक देखभाल करने की याद दिलाने के लिए हमेशा वहाँ होते हैं क्योंकि वे स्वास्थ्य और कल्याण पर बहुत ध्यान केंद्रित करते हैं। वे अपने परिवार के लिए बहुत समर्पित और बुजुर्ग और बीमार लोगों का बहुत ख्याल रखते हैं। वे बहुत ही योग्य माता-पिता हैं। हालांकि, कन्या राशि के जातक सीधे अपनी भावनाओं को नहीं दिखायेंगे, बल्कि वे ठोस कृत्यों के माध्यम से ऐसा करेंगे।

कन्या राशि वाले इस भगवान की करें पूजा: मां दुर्गा की आराधना करें

कन्या राशि के जातक करें ये उपाय:

  • हर बुधवार को गणेश मंदिर में मोदक चढ़ाएं।
  • कांसे के बर्तन में मूंग भरकर दान करें।
  • गणेश जी को गुड़ और दूर्वा चढ़ाएं।
  • आपकी सबसे बड़ी समस्या है, जरूरत से ज्यादा धन के पीछे भागना।
  • इसके लिए आपको मां दुर्गा की आराधना करनी चाहिए।
  • आपको पूजा में शुद्ध घी का दीपक जरूर जलाना चाहिए।

तत्व: पृथ्वी

गुणवत्ता: अस्थिर

रंग: सफेद, पीला, मटमैला, जंगली हरा

दिन: बुधवार

स्वामी: बुध

सबसे बड़ी समग्र संगतता: वृष, मकर

विवाह और भागीदारी के लिए उत्तम: मीन

भाग्य अंक: 5, 14, 23, 32, 41, 50


Libra Rashifal in hindi : तुला राशि चक्र में सातवीं राशि है। बाजार में अपनी तुला लिए खड़े व्‍यक्ति के रूप में तुला राशि को दिखाया गया है। विचारों से सम और हर बात को पूरी तरह तौलकर देखने वाला जातक तुला राशि का होगा। हालाँकि इस राशि पर शुक्र का आधिपत्‍य है, इस कारण तुला राशि के जातकों को बनने संवरने, संगीत, चित्रकारी और बागवानी जैसे शौक होते हैं। इसके बावजूद रचनात्‍मक आलोचना और राजनैतिक चातुर्य इन जातकों का ऐसा कौशल होता है कि दूसरे लोग इनसे चकित रहते हैं। वणिक बुद्धि के कारण वाद विवाद में पड़ने के बजाय समझौता करने में अधिक यकीन रखते हैं। इन जातकों का शरीर दुबला पतला और अच्‍छे गठन वाला होता है। चेहरा सुंदर भी न हो तो मुस्‍कान मोहक होती है। हालाँकि इन जातकों की शारीरिक संरचना सुदृढ़ होती है, लेकिन रोग प्रतिरोधक क्षमता अपेक्षाकृत कम होने के कारण बीमारियों की पकड़ में जल्‍दी आते हैं। साझीदार के साथ व्‍यापार करना इनके लिए ठीक रहता है। जातक उचित समय पर सही सलाह देता है। ऐसे में साझेदार भी ज्‍यादातर फायदे में रहते हैं। एक बार मित्र बना लें तो हमेशा के लिए अच्‍छे मित्र सिद्ध होते हैं। इन जातकों का पंचमेश शनि होता है। इस कारण तुला लग्‍न के जातकों के अव्‍वल तो संतान कम होती है और अधिक हो भी जाए तो संतान का सुख कम ही मिलता है। इनके लिए शुभ दिन रविवार और सोमवार बताए गए हैं। शुभ रंग नारंगी, श्‍वेत और लाल तथा शुभ अंक एक व दस हैं।

नौकरी और व्यवसाय: तुला राशि के लिए, सद्भाव का संतुलन बनाए रखना अत्यंत महत्वपूर्ण है। वे महान नेता हो सकते हैं, और विशेषाधिकारों के लायक बनने तथा अर्जित करने लिए कड़ी मेहनत करेंगे। निर्णय लेने में सत्य और न्याय हमेशा प्रबल रहते हैं। इस सामाजिक प्राणी के लिए साझेदारी या टीम में काम करना एक आदर्श है। तुला राशि में पैदा हुए लोग समझाने में भी बहुत निपुण और प्रतिभाशाली वक्ता होते हैं।

ऐसी नौकरी जिसका अर्थ न्याय है जैसे एक पुलिस अधिकारी, एक वकील या एक न्यायाधीश तुला राशि के लिए एक उत्कृष्ट पसंद हैं। वे राजनयिक, प्रशासक, इंटीरियर डिजाइनर, संगीतकार और फैशन डिजाइनर के रूप में सफल करियर अपना सकते हैं। समूह में कार्य करना तुला के लिए एक समस्या नहीं है और कूटनीति की उनकी मजबूत भावना से लगभग सभी कार्यों को पूरा करने में उन्हें मदद मिलेगी।

अगर आप तुला राशि के जातक के साथ शॉपिंग पर जा रहे हैं, तो आप जो सबसे उत्तम कर सकते हैं वह अतिरिक्त समय के लिए योजना बनाना है। जब खरीदने की बात आती है, तो वे बहुत संकोची हो सकते हैं। वे बचत और पैसा खर्च करने के बीच संतुलन रखने में बहुत प्रतिभाशाली होते हैं। उन्हें फैशन और अच्छे वस्त्र पसंद है, तो आप अक्सर उन्हें किसी शॉपिंग मॉल में देख सकते हैं।

प्यार और स्नेह: तुला राशि में पैदा हुए लोगों के जीवन में सही जीवनसाथी खोजना एक प्राथमिकता होगी। तुला में जन्मे लोग जो पहले से ही एक रिश्ते में हैं, उनके लिए शांति बनाए रखना और सद्भाव सबसे महत्वपूर्ण है। अकेलापन अप्राकृतिक और तुला के लिए बहुत दुख की बात है। प्रेमियों के रूप में वे अर्थपूर्ण, रचनात्मक और संतुलित होते हैं। वे अपने जीवनसाथी को खुश करने के लिए आवश्यक सब कुछ करेंगे। उनका आकर्षक व्यक्तित्व और उनका समर्पण उन्हें अद्भुत जीवनसाथी बनाता है।

सेहत और परिवार: आप किसी पुराने दर्द या रोग से पीड़ित हो सकते हैं। आपके माता-पिता में से किसी एक का स्वास्थ्य खराब हो सकता है। इस कारण आपकी टेंशन बढ़ सकती है। संतान की सेहत के मामले में भी दौड़-भाग होगी और खर्चा हो सकता है। तुला राशि में जन्मे जातक मजेदार और मदद के लिए हमेशा तैयार रहते हैं जो उन्हें महान मित्र बनाता है। वे देरी करने के इच्छुक और दुविधा की स्थिति में हो सकते हैं, लेकिन वे सही मायने में अद्भुत मित्र होते हैं और दुसरे लोग उनकी संगति में बने रहने की इच्छा रखते हैं। इस लचीली राशि का जातक मित्र एवं परिवार के साथ समय बिताना पसंद करता है और जब जरूरी हो किसी सभा का आयोजन करने में जरा भी संकोच नहीं करते। तुला सामाजिक और प्यारा है और वास्तव में आनंद देने वाला सामंजस्यपूर्ण वातावरण बनाने के बारे में जानता है। जब चुनौतियों की बात आती है, तुला राशि में जन्मे लोग असहमति के लिए हल निकालना जानते हैं जो उन्हें समस्या हल करने के लिए उत्कृष्ट बनाता है।

तुला राशि वाले इस भगवान की करें पूजा: भगवान कृष्ण की पूजा करें

तुला राशि के जातक करें ये उपाय:

  • इनकी सबसे बड़ी समस्या है लापरवाह होना।
  • भगवान कृष्ण की पूजा करें।
  • आपको पूजा में सफेद फूलों का प्रयोग करना लाभदायक होगा।
  • गाय को घी लगी हुई रोटी खिलाएं।
  • किसी गरीब बच्चे को फल खिलाएं।
  • लक्ष्मी जी के मंदिर में घी का दीपक लगाएं।

तत्व: वायु

गुणवत्ता: मूल

रंग: नीला, हरा

दिन: शुक्रवार

स्वामी: शुक्र

सबसे बड़ी समग्र संगतता: मिथुन, कुंभ

विवाह और भागीदारी के लिए उत्तम: मेष

भाग्य अंक: 6, 15, 24, 33, 42, 51, 60


Scorpio Rashifal in hindi : वृश्चिक राशि चक्र में आठवीं राशि है। वृश्चिक एक जल राशि है और अनुभव एवं भावनाओं को व्यक्त करने के लिए जीते हैं। भले ही भावनायें वृश्चिक के लिए बहुत महत्वपूर्ण हैं, वे अन्य जल राशियों से उन्हें अलग प्रकट करते हैं। किसी भी मामले में, आप यकीन कर सकते हैं कि वृश्चिक आपके किसी भी रहस्य को जाहिर नहीं करेंगे।

प्लूटो परिवर्तन और उत्थान का ग्रह है, और इस राशि का स्वामी भी है। वृश्चिक को अपने शांत और विनम्र व्यवहार से, और उनके रहस्यमय दिखावट से भी जाना जाता है। लोग अक्सर कहते हैं कि वृश्चिक में जन्मे लोग प्रखर होते हैं, शायद क्योंकि वे ब्रह्मांड के नियमों को बहुत अच्छी तरह से समझते हैं। वृश्चिक राशि में जन्मे कुछ लोग वास्तव की तुलना में बड़ी उम्र के दिख सकते हैं। वे उत्कृष्ट नेता होते हैं क्योंकि जो भी वे करें उसके लिए बहुत समर्पित होते हैं। वृश्चिक को बेईमानी से घृणा होती है और वे बहुत ईर्ष्यालु और संदिग्ध हो सकते हैं, तो उन्हें विभिन्न मानव व्यवहार और अधिक आसानी से अनुकूलन करना सीखने की जरूरत है। वृश्चिक बहादुर होते हैं और इसलिए उनके बहुत से मित्र होते हैं।

नौकरी और व्यवसाय: बिजनेस करने वाले लोग लेन-देन में जोखिम न लें। दूसरों पर विश्वास कर के पैसा या सामान उधार नहीं देना चाहिए, नही तो कुछ लोग आपको धोखा भी सकते हैं। बिजनेस में फायदा तो होगा लेकिन खर्चा भी बढ़ सकता है। नौकरीपेशा लोगों को कोई बड़ी जिम्मेदारी मिल सकती है। कामकाज ज्यादा रहेगा, लेकिन सैलेरी बढ़ने की भी संभावना है। अधिकारियों से मदद मिलेगी। साथ काम करने वाले लोग भी मददगार रहेंगे।

प्यार और स्नेह: आप दाम्पत्य जीवन को मजबूत बनाने की कोशिश करेंगे और काफी हद तक सफल भी हो जाएंगे। ज्यादातर दिन लव लाइफ के लिए अच्छे रहेंगे। आपको जीवनसाथी से मदद भी मिल सकती है। जीवन साथी से सहयोग मिलेगा। रिश्ते में मधुरता बरकरार रहेगी। किसी धार्मिक अनुष्ठान में जीवनसाथी के साथ शामिल हो सकते हैं। संतान की ओर से भी सुख मिलेगा।

सेहत और परिवार: सेहत में विशेष सावधानी बरतने का समय है। दांत, मांसपेशियों और चोट लगने से परेशानी बढ़ सकती है। महिलाओं को वाहन चलाते समय सावधानी रखनी होगी। दुर्घटना के योग हैं। आप अपने रहन-सहन के स्तर में सुधार के लिए काफी खर्चा कर सकते हैं, लेकिन इसका पॉजिटिव असर आपकी सेहत पर पड़ेगा। इस महीने पुरानी बीमारियों से आपको छुटकारा मिल सकता है। योगा और कसरत करने से आपको फायदा मिलेगा। जीवनसाथी की भावनाएं समझने की कोशिश करें। इस महीने परिवार में कुछ बड़े और खास फैसले हो सकते हैं। परिवार के लोग आत्म-केन्द्रित और भावुक हो सकते हैं। कोई भावुक घटना या कलह आपके परिवार पर नकारात्मक असर भी डाल सकता है।

वृश्चिक राशि वाले इस भगवान की करें पूजा: हनुमान जी की पूजा करें

वृश्चिक राशि के जातक करें ये उपाय:

  • मंगलवार को हनुमान मंदिर में सिंदूर दान करें।
  • गुड़ खाकर घर से निकलें।
  • माता जी के मंदिर में कुमकुम दान करें।
  • जिंदगी का धीरे चलना इनकी सबसे बड़ी समस्या है।
  • इसके लिए हनुमान जी की उपासना करनी चाहिए।
  • पूजा में तुलसी जरूर चढ़ाएं।

तत्व: जल

गुणवत्ता: स्थिर

रंग: गुलाबी, लाल, गेरुआ

दिन: मंगलवार

स्वामी: प्लूटो

सबसे बड़ी समग्र संगतता: कर्क, मीन

विवाह और भागीदारी के लिए उत्तम: वृष

भाग्य अंक: 9, 18, 27, 36, 45, 54, 63, 72, 81, 90


Sagittarius Rashifal in hindi : धनु राशि चक्र में नौवें राशि है। युवाओं के पथ प्रदर्शक स्‍वामी विवेकान्‍द धनु लग्‍न के जातक थे, तो आपके दिमाग में धनु लग्‍न अथवा धनु राशि से प्रभावित जातकों की छवि तुरंत बन जाएगी। धनु राशि का स्‍वामी गुरु है। इन जातकों की खासियत यह होती है कि ये विपरीत परिस्थिति में बेहतरीन प्रदर्शन करते हैं। ये जातक बहुत अधिक सोचते हैं। इस कारण निर्णय करने में देरी भी करते हैं, लेकिन एक बार जिस निर्णय पर पहुंच जाए उससे डिगते नहीं हैं। सत्‍य के साथ रहते हैं और किसी के साथ अन्‍याय हो रहा हो तो उसके साथ जा खड़े होते हैं। बोलने में इतने मुंहफट होते हैं कि यह जाने बिना कि सामने वाले पर क्‍या बीत रही होगी, बोलते जाते हैं। इन लोगों की बोली में ही व्‍यंग्‍य समाया हुआ होता है। सीधी बात कहने की बजाय टोंटिंग में ही बोलते नजर आएंगे। अच्‍छे चेहरे मोहरे, सुगठित शरीर, लम्‍बा चौड़ा ललाट, ऊंची और घनी भौंहों वाले आकर्षक व्‍यक्तित्‍व को देखकर ही समझा जा सकता है कि यह धनु लग्‍न या धनु राशि प्रधान व्‍यक्ति है। ये निडर, साहसी, महत्‍वाकांक्षी, अति लोभी और आक्रामक होते हैं। इन लोगों को जिंदगी में अनायास लाभ नहीं होता है। ये रिश्‍तेदारों के प्रति निर्मम और अपरिचितों के लिए नम्र होते हैं। ये तेजी से मित्र बनाते हैं और लम्‍बे समय तक उसे निभाते भी हैं। अगर किसी व्‍यक्ति की धनु राशि या धनु लग्‍न की कन्‍या से विवाह हो तो उसे भाग्‍यशाली समझना चाहिए। क्‍योंकि ऐसी कन्‍या अपने पति को समझने वाली और सही परामर्श देने वाली होती है। इनके लिए शुभ दिन बुधवार और शुक्रवार बताए गए हैं। शुभ रंग श्‍वेत, क्रीम, हरा, नारंगी और हल्‍का नीला बताया गया है। शुभ अंक छह, पांच, तीन और आठ हैं।

नौकरी और व्यवसाय: धनु राशि में जन्मे लोग जब अपने दिमाग में कोई कल्पना कर लें, तो वे इस लक्ष्य को हासिल करने के लिए कुछ भी कर सकते हैं। वे जानते हैं कि किसी परिस्थिति में क्या कहना है और वे उत्तम विक्रेता होते हैं। धनु विभिन्न कार्यों और गतिशील वातावरण के पक्ष में है। ट्रैवल एजेंट, फोटोग्राफर, शोधकर्ता, कलाकार, राजदूत, आयातक और निर्यातक जैसे कार्य इस मुक्त उत्साही व्यक्ति के लिए उपयुक्त रहते हैं।

मौज मस्ती करने वाले धनु को पैसा कमाने और खर्च करने में आनंद मिलता है। राशिचक्र की सबसे खुशनुमा राशि धनु के जातक ज्यादा फ़िक्र नहीं करते कि वे पैसा कहाँ से अर्जित करेंगे। वे जोखिम लेने वाले और बहुत आशावादी होते हैं। उनका मानना है कि ब्रह्मांड उनके लिए जरूरी सब कुछ प्रदान करेगा।

प्यार और स्नेह: धनु राशि में पैदा हुए लोग बहुत चंचल और विनोदी होते हैं जिसका मतलब है कि वे अपने साथियों के साथ खूब मजे करेंगे। समान रूप से खुले साथी निश्चित रूप से भावुक, अर्थपूर्ण धनु के अनुरूप होंगे जो लगभग कुछ भी परखने के लिए तैयार है।

इस राशि के लिए प्यार और सेक्स के बीच एक हल्की रेखा हमेशा से वहाँ है। परिवर्तन और विविधता के लिए उनका प्यार उनके बिस्तर में कई अलग-अलग चेहरे ला सकता है। लेकिन जब उन्हें सही मायने में प्यार हो जाए, तो वे बहुत वफादार, भरोसेमंद और समर्पित रहते हैं। वे चाहते हैं कि उनके जीवनसाथी बौद्धिक, संवेदनशील और अर्थपूर्ण हो।

सेहत और परिवार: पहले से चली आ रही बीमारियों से छुटकारा पाना है तो अपनी नियमित जांच व इलाज जरूरी है। जरा-सी लापरवाही आपको वहीं पहुंचा देगी जहां से शुरू हुए थे। जरूरी परेहज भी अपनाएं। इस बात को याद रखें कि हालात स्थिर होने में वक्त लग सकता है। नैचुरोपैथी इलाज में मददगार रहेगी। जीवन में अनुशासन लाना जरूरी होगा। जो जातक सेहतमंद हैं, उन्हें किसी बीमार की सेवा करनी पड़ सकती है। धनु बहुत ही मजेदार और हमेशा मित्रों से घिरा हुआ रहता है। धनु राशि में जन्मे लोग जीवन तथा संस्कृति की विविधता का आनंद लेना तथा हंसना पसंद करते हैं, तो वे सरलता से दुनिया भर के कई मित्रों को हासिल कर लेंगे। वे उदार होते हैं और व्याख्यान देने वाले लोगों में से नहीं। जब परिवार की बात आती है, धनु पूरी तरह से समर्पित और लगभग कुछ भी करने को तैयार है।

धनु राशि वाले इस भगवान की करें पूजा: सूर्य की पूजा करें

धनु राशि के जातक करें ये उपाय:

  • समस्या आपकी वाणी के साथ है.
  • इसके लिए आपको सूर्य की उपासना जरूर करनी चाहिए.
  • प्रसाद में सफेद मिठाई चढ़ाना शुभ होगा.

तत्व: अग्नि

गुणवत्ता: अस्थिर

रंग: बैंगनी, जामुनी, लाल, गुलाबी

दिन: गुरुवार

स्वामी: बृहस्पति

सबसे बड़ी समग्र संगतता: मेष, सिंह

विवाह और भागीदारी के लिए उत्तम: मिथुन

भाग्य अंक: 3, 12, 21, 30


capricorn Rashifal in hindi : मकर राशि बारह राशियों के समूह में 10वीं है। इसका स्वामी शनि है। लम्‍बे और पतले मकर लग्‍न अथवा राशि के जातकों को एक बारगी देखने पर यकीन नहीं होता कि ये लोग बड़े समूह या संगठन का सफल संचालन कर रहे हैं। बचपन में इन्‍हें देखें तो लगता है पता नहीं कब बड़े होंगे और कब अपने पैरों पर खड़े होंगे। पर, किशोरावस्‍था में अचानक तेजी से बढ़ते हैं और इतना विकास करते हैं कि अचानक युवा दिखाई देने लगते हैं। यह अवस्‍था भी इतने अधिक लम्‍बे समय तक रहती है कि साथ के युवक अधेड़ दिखने लगते हैं और इन पर जैसे अवस्‍था का असर ही दिखाई नहीं देता। यह त्‍याग और बलिदान की राशि है। कृष्‍णामूर्ति बताते हैं कि जो व्‍यक्ति पिछले जन्‍म में अपना बलिदान देता है वह इस जन्‍म में मकर राशि में पैदा होता है। ये जातक मितव्‍ययी, नीतिज्ञ, विवेक बुद्धियुक्‍त, विचारशील, व्‍यावहारिक बुद्धि वाले होते हैं। इनमें विशिष्‍ट संगठन क्षमता होती है। असाधारण सहनशीलता, धैर्य और स्थिर प्रवृत्ति इन्‍हें बड़ा संगठन खड़ा करने में मदद करती है। इन लोगों को उपहास से हमेशा भय लगा रहता है। इस कारण समूह में बोल नहीं पाते। ऐसे में लोग समझते हैं कि ये लोग अंतर्मुखी हैं। इस राशि का स्‍वामी शनि है। शनि अच्‍छा होने पर ये लोग ईमानदार, सजग और विश्‍वसनीय होते हैं और शनि खराब होने पर ठीक उल्‍टा होता है। इन्‍हें एक साथी हमेशा साथ में चाहिए। तब इनका कार्य अधिक उत्‍तम होता है। इन जातकों में अहंकार, निराशावाद, अत्‍यधिक परिश्रम की कमियां होती हैं। इन्‍हें चिंतन पक्षाघात (एनालिसिस पैरालिसिस) की समस्‍या होती है। जातकों को सजग रहकर इन समस्‍याओं से बचने की कोशिश करनी चाहिए। ये लोग अपने परिजनों से प्रेम करते हैं लेकिन उसका प्रदर्शन नहीं करते। इसलिए परिवार के लोग, यहां तक कि इनकी संतान भी ही समझती है कि उनके पिता उन पर ध्‍यान नहीं देते। एक बात है जो इनके व्‍यवहार के विपरीत होती है वह यह कि जहां समूह में एक भी बाहर का व्‍यक्ति हो तो ये लोग चुप्‍पी मार जाते हैं, लेकिन यदि परिवार के लोग या सभी निकट के परिचित लोग हो तों परिहास की हल्‍की फुल्‍की ऐसी बातें करते हैं कि सभा में उपस्थित सभी लोगों का हंसते हंसते बुरा हाल हो जाता है। इनके लिए शुभ दिन शुक्रवार, मंगलवार और शनिवार होता है। शुभ रंग लाल, नीला और सफेद है।

नौकरी और व्यवसाय: नेतृत्व का कौशल आपमें पैदाइशी है। इसी कारण कई बार अपनी चलाने के चक्कर में आ बैल मुझे मार वाली स्थिति में फंस जाते हैं। किसी भी काम को मना न करना आपका खास गुण है और इसी कारण चुनौतियों का सामना करने में आपको आनंद मिलता है। इन्हीं गुणों से प्रभावित हो सीनियर आप पर भरोसा जताएंगे, जिसका आपके करियर पर सकारात्मक प्रभाव पड़ेगा। अक्टूबर में कोई आपके खिलाफ षड्‌यंत्र रच सकता है, सतर्क रहें।

व्यक्तिगत जीवनः युवा जोड़े किसी के दबाव में फैसला न लें, अपनी निजी परिस्थिति को आंकते हुए ही भविष्य की योजना बनाएं। अक्टूबर के महीने में रिश्ते मेंगलतफहमी न उभरने दें। गलतफहमी रिश्तों का गला घोंट देती है, बातचीत के जरिए जल्दी से जल्दी मतभेद दूर कर लें। जुलाई-अगस्त के महीनों में दूर से रिश्तेदार आपके घर ठहरने आ सकते हैं। इन रिश्तेदारों का साथ बच्चों पर सकारात्मक प्रभाव डालेगा, वे उनसे कुछ सीखेंगे ही। मकर राशि में जन्मे लोग खुद के लिए उच्च मानकों को स्थापित करेंगे, लेकिन उनकी ईमानदारी, समर्पण और लगन उन्हें उत्कृष्ट प्रबंधक बनाती हैं। वफादारी और मेहनत से काम करने की इच्छा ऐसे गुण हैं जिन्हें मकर अपने और अपने परिवेश के लोगों में अत्यधिक प्रशंसा करता है। मकर में एक जीवंत मन और बेहतरीन एकाग्रता का स्तर मौजूद रहता है। प्रबंधन, वित्त, शिक्षा और रियल एस्टेट में नौकरी इस राशि के लिए एक उत्कृष्ट पसंद हैं।

मकर राशि में जन्मे जातक बहुत ही साधन संपन्न और अपने समय और पैसे का प्रबंधन अच्छी तरह से करना जानते हैं। वे बहुत मेहनती और पूरी तरह से प्रतिबद्ध होते हैं। मकर जानता है कि लंबे समय में केवल कड़ी मेहनत ही सफलता लाएगी।

प्यार और स्नेह: विपरीत लिंग के जातक आपसे आकर्षित हुए बिना नहीं रह सकेंगे। रोमांटिक सितारे बुलंदी पर रहेंगे, प्यार के फूल खिलने का समय है। अप्रैल का महीना वैवाहिक जीवन के लिए सही नहीं होगा। आपका अड़यिल और जिद्दी रवैया आपके पार्टनर को परेशान कर सकता है। खुशनुमा ़जिन्दगी के लिए अपना जिद्दी और अड़ियल रवैया दरकिनार करें, क्योंकि इससे सिर्फ समय की बर्बादी ही होती है। साल के अंत में सिंगल जातकों की मुलाकात अपने होने वाले जीवनसाथी के साथ मुमकिन है। जब प्यार और रिश्ते की बात आती है – मकर राशि का दिल जीत पाना बहुत मुश्किल है। लेकिन, अगर आप उस पर पकड़ प्राप्त करने में सफल हों, जीवन भर मकर आप के लिए प्रतिबद्ध रहेगा। मकर एक गंभीर प्रेमी है, जो धीरे-धीरे और अच्छी तरह काम पसंद करता है। मकर राशि में पैदा हुए लोग शब्दों के बजाय कार्यों के माध्यम से अपनी भावनाओं को व्यक्त करते हैं। वे उदार होते हैं और एक शानदार रात पर पैसा खर्च करने में संकोच नहीं करेंगे। वे ईमानदार, वफादार और परवाह करने वाले होते हैं।

सेहत और परिवार: अनुशासित जीवनशैली अपनाते हुए परफेक्ट हेल्थ का आनंद लेंगे। शारीरिक व मानसिक तनाव दूर रखने में सफल रहेंगे। खेलकूद में दिलचस्पी लेंगे। गंभीरता से स्पोर्ट्‌स में दिलचस्पी दिखाएंगे, किसी टीम का हिस्सा भी बन सकते हैं। अपनी फिटनेस का खयाल तो रखेंगे ही, साथ ही दूसरों को भी सेहतमंद जीवन जीने के लिए प्रोत्साहित करेंगे। मकर बहुत बुद्धिमान और विनोदी होने के कारण एक महान मित्र हो सकता है। वे अपने मित्रों के रूप में ईमानदार और वफादार लोग चाहते हैं। जब मित्र एवं परिवार की बात आती है तो वहां कोई सीमा नहीं है। मकर परिवार की परंपराओं का सम्मान करता है और मित्र एवं परिवार के साथ घूमना फिरना, समय बिताना पसंद करता है। मकर के बहुत ज्यादा मित्र नहीं होते, जिसका अर्थ है कि उसके मित्र ईमानदार और अनुरूप होने चाहिए। मकर राशि के लिए भावना का विस्फोट एक आम बात है, जो कार्यों के माध्यम से अपनी भावनाओं को व्यक्त करता है।

मकर राशि वाले इस भगवान की करें पूजा: शिव जी की पूजा करें

मकर राशि के जातक करें ये उपाय:

  • सबसे बड़ी समस्या है, अपनी सेहत के प्रति लापरवाही।
  • इसके लिए शिव जी की उपासना करें।
  • पीले रंग के आसन पर बैठकर पूजा करना सर्वोत्तम होगा।
  • हनुमान जी के मंदिर में सरसों के तेल का दीपक लगाएं।
  • इस महीने नए जूते या चप्पल खरीदकर किसी को दान करें।
  • कंबल का दान करें।
  • हनुमान जी के रोज दर्शन करें।
  • गरीबों को दान दें।
  • एक दिन अपने घर में रख कर कोई नारियल नदी में बहा दें।
  • शनि मंदिर में हर शनिवार तेल चढ़ाएं।
  • गरीब या भिखारियों को दान करें।
  • किसी हनुमान मंदिर में नारियल चढ़ाएं।

तत्व: पृथ्वी

गुणवत्ता: मूल

रंग: भूरा, स्लेटी, काला

दिन: शनिवार

स्वामी: शनि

सबसे बड़ी समग्र संगतता: वृष, कन्या

विवाह और भागीदारी के लिए उत्तम: कर्क

भाग्य अंक: 1, 4, 8, 10, 13, 17, 19, 22, 26


Aquarius Rashifal in hindi : कुंभ राशि बारह राशियों के समूह में 11वीं है। कुंभ राशि के लोग मूल रूप से मजबूत और आकर्षक व्यक्तित्व के अधिकारी होते हैं। कुंभ राशि के लोग दो प्रकार के होते हैं :- एक शर्मीली, संवेदनशील, कोमल और धैर्य और अन्य विपुल, जीवंत और दिखावटी है, कभी कभी निरर्थक व्यापार का लबादा के तहत उनके चरित्र की काफी गहराई छुपा. दोनों प्रकार के अपने अलग अलग तरीकों में मजबूत इच्छाशक्ति, सशक्त और मजबूत प्रतिबद्धता है, वे आम तौर पर काफी ईमानदार होते हैं। वे विस्तार दृष्टि के है जो एक पूरी तर्क में विभिन्न कारकों लाता है और जो पक्ष लेने के लिए के रूप में बिना दुविधा किसी तर्क के दोनों पक्षों को देख सकते हैं। नतीजतन वे निष्पक्ष और सहनशील हैं। एक कुंभ राशि हमेशा एक मेषराशि वाले का सहजता से समर्थन करते है और बदले में अरियन भी कुंभ राशि की रचनात्मकता और अभिनव विचारों की प्रशंसा.

भचक्र ही यह ग्‍यारहवीं राशि है। इस पर शनि का आधिपत्‍य है। वायु तत्‍वीय, विषम और स्थिर राशि है। इस राशि में कोई भी ग्रह उच्‍च या नीच का नहीं होता। इस लग्‍न के जातक आमतौर लंबे, दुबले, क्रियाशील, नकारात्‍मक सोच वाले, काम में लगे रहने वाले और मजबूत शरीर वाले होते हैं। ये दिमागी रूप से इतने सजग होते हैं कि इन्‍हें प्रशंसा अथवा अन्‍य चापलूसी वाले तरीकों से खुश किया या बरगलाया नहीं जा सकता।

इसी प्रवृत्ति के कारण ये लोग नई बातों को समझने और आत्‍मसात करने के मामले में कुछ कमजोर होते हैं, इसके चलते कुंभ राशि के जातकों पर बहुत जल्‍दी पुरातनपंथी होने का ठप्‍पा लग जाता है। अपनी तय नियमों और सिद्धांतों पर अडिग रहते हैं, इस कारण सामाजिक स्‍तर पर कई बार बहिष्‍कार की स्थिति तक पहुंच जाते हैं। केएस कृष्‍णामूर्ति तो कहते हैं कि धर्म, अर्थ, काम और मोक्ष में कुंभ राशि के जातक काम के प्रति झुके हुए होते हैं, यहां काम का अर्थ उन्‍होंने अभिलाषा से लगाया है। ऐसे जातक अगर अकेले में या बिना मित्रों के रहेंगे तो खराब स्थिति में रहेंगे।

भले ही सावधानी से मित्रों का चुनाव करे, लेकिन मित्र जरूर रखें। कुंभ राशि अथवा लग्‍न वाली स्त्रियां अपने साथी को संतोषजनक पाने पर उनका पूरा साथ देती हैं, लेकिन असंतुष्‍ट होने पर अपने पति को छोड़ देने के लिए भी हिचकिचाती नहीं हैं। कुंभ जातकों के लिए गुरु, शुक्र, मंगल और सोमवार श्रेष्‍ठ बताए गए हैं। शुभ रंग पीला, लाल, सफेद और क्रीम है।

नौकरी और व्यवसाय: कुंभ राशि में जन्मे जातक नौकरी में उत्साह भर देते हैं और व्यावसायिक उद्देश्यों के लिए अपनी कल्पना का दोहन करने की एक अनूठी क्षमता है। अवधारणा के विकास और प्रदर्शन में सक्षम बनाने वाला करियर इस राशि के लिए अनुरूप होगा। अपनी प्रतिभा को साझा करने की उनकी इच्छा के साथ मिश्रित उनकी तीक्ष्ण बुद्धि उस माहौल में काम करने वालों को प्रेरित करती है। कुंभ एक दूरदर्शी किस्म है जो मानवता को बेहतर बनाने के उद्देश्य से की जाने वाली गतिविधियों में संलग्न होना पसंद करती है।

जब पैसे बात आती है, इस राशि में राशि को खर्च करने और पैसे की बचत के बीच एक संतुलन बनाए रखने की प्रतिभा है। कुंभ राशि में जन्मे अधिकांश लोग फैशन के लिए उनके अहसास को दिखाने से नहीं डरते और अच्छी तरह से अनुकूलित होते हैं। कुंभ राशि के जातकों को साहसपूर्वक चमकीले रंग का सूट पहनते देखना असामान्य नहीं है।

अभिनय, लेखन, शिक्षण, फोटोग्राफी या विमान संचालक के रूप में करियर इस राशि के लिए उपयुक्त हैं। उनके लिए सबसे अच्छा वातावरण वह है जो उन्हें सख्त दिशा निर्देशों के बिना समस्या का समाधान करने की स्वतंत्रता देता है। कुंभ एक अपरंपरागत प्रकार है और अगर उन्हें अपनी प्रतिभा व्यक्त करने का अवसर दिया जाए तो उल्लेखनीय सफलता हासिल कर सकते हैं।

प्यार और स्नेह: बौद्धिक उत्तेजना कुंभ राशि के लिए अब तक की सबसे बड़ी कामोद्दीपक होती है। एक व्यक्ति के साथ एक दिलचस्प वार्तालाप की तुलना में कुंभ को आकर्षित करने योग्य कुछ भी नहीं है। खुलापन, संवाद, कल्पना और जोखिम की इच्छा इस राशि के जीवन के परिप्रेक्ष्य में अच्छी तरह से समाने वाले गुण हैं। इस गतिशील व्यक्ति के साथ एक लंबी अवधि के रिश्ते चाहने वाले लोगों में निष्ठा और ईमानदारी सबसे जरूरी है। प्यार में वे वफादार और प्रतिबद्ध हैं हक जताने वाले नहीं – वे अपने साथियों को स्वतंत्रता देंगे और उन्हें बराबर मानते हैं।

सेहत और परिवार: सेहत को लेकर आप बहुत ज्यादा चिंतित रहते हैं। चिंता चिता समान है, इसका आपकी शारीरिक व मानसिक सेहत पर बुरा असर पड़ सकता है। वजन घटाना चाहेंगे लेकिन इसके लिए कोई शॉर्ट कट न अपनाएं। शॉर्ट कट अपनाने से लेने के देने पड़ सकते हैं। ध्यान लगाना व योग करने से मानसिक शांति प्राप्त करने में सफलता मिलेगी। आपको जोड़ों के दर्द परेशान कर सकते हैं। नशे से दूर रहना होगा वरना श्वांस और पेट संबंधी समस्याएं बढ़ सकती हैं। तनाव के कारण नींद की कमी रहेगी और थकान भी बनी रहेगी। कोई पुराना रोग या दर्द परेशान कर सकता है। छोटी-छोटी परेशानियां बनी रहेंगी। खानपान में ध्यान देना होगा। भले ही कुंभ राशि में जन्मे लोग मिलनसार हैं, उन्हें लोगों का करीबी होने के लिए समय की जरूरत है। वे बेहद संवेदनशील लोग हैं इसे ध्यान में रखते हुए उन से निकटता का मतलब भेद्यता है।

उनके मजबूत विचारों के साथ मिश्रित त्वरित व्यवहार, उन्हें मिलने के लिए एक चुनौती बना देता है। यदि जरूरी हुआ तो कुंभ अपने प्रिय के आत्म बलिदान जैसा कुछ भी करेंगे।

उनके मित्रों को यह तीन गुण रखने चाहिए: रचनात्मकता, बुद्धि और अखंडता। जब परिवार की बात आती है, उनकी उम्मीदें भी कुछ कम नहीं होती। भले ही उनमें रिश्तेदारों के लिए कर्तव्य की भावना है, मित्रों में भी वे घनिष्ठ संबंध बनाए नहीं रखेंगे अगर उनकी उम्मीदों को पूरा नहीं करते हैं।

कुंभ राशि वाले इस भगवान की करें पूजा: विष्णु जी की पूजा करें

कुंभ राशि के जातक करें ये उपाय:

शनिवार को हनुमान जी के दर्शन करें।
हनुमान मंदिर में नारियल चढ़ाएं।
गरीबों को भोजन का दान करें।
गुरुजनों का आशीर्वाद लें।
पक्षियों को दाना डालें।
हनुमान चालीसा का नियमित पाठ करें।
नदी में नारियल प्रवाहित करें।
भगवान विष्णु की आराधना करें।
महिलाओं को सम्मान और सहयोग दें।

तत्व: वायु

गुणवत्ता: स्थिर

रंग: नीला, नीला-हरा, स्लेटी, काला

दिन: शनिवार, रविवार

स्वामी: यूरेनस

सबसे बड़ी समग्र संगतता: मिथुन, तुला

विवाह और भागीदारी के लिए उत्तम: सिंह

भाग्य अंक: 4, 8, 13, 17, 22, 26


Pisces Rashifal in hindi : मीन राशि बारह राशियों के समूह में 12वीं है। यह गुरु की दूसरी और भचक्र की अंतिम राशि है। इस राशि के जातकों में करुणा की भावना होती है, स्‍वयं बढ़कर भले ही सहायता न करे, लेकिन पुकारे जाने पर पूरी तरह सहायता के लिए तत्‍पर हो उठते हैं। ये दार्शनिक होते हैं, रोमांटिक जीवन जीते हैं, साहस के साथ स्‍पष्‍ट बोलने वाले और विचारशील होते हैं। अपनी सज्‍जनता के कारण जिंदगी में सफलताओं के कई मौके गंवा बैठते हैं।

द्विस्‍वभाव राशि का असर जातकों के विचारों पर भी पड़ता है, एक समय इनके एक प्रकार के विचार होते हैं तो परिस्थितियां बदलने पर विचार भी बदल जाते हैं। मीन जातकों को प्राय: गैस संबंधी शिकायत होती है। मदिरा के सेवन के शौक को मीन राशि वाले जातकों को नियंत्रण में रखना चाहिए। ये लोग आमतौर पर भण्‍डारी, शिक्षक, मुनीम अथवा बैंक में कर्मचारी होते हैं।

एकाग्रता कम होने के कारण निरन्‍तर नए कार्यों की ओर उन्‍मुख होते रहते हैं। अपनी संतान के आश्रित बनने से बचने क लिए ये जातक युवावस्‍था में ही निवेशों पर ध्‍यान देने लगते हैं। मीन लग्‍न के जातक अपेक्षाकृत तेजी से मित्र बनाते हैं, ऐसे में इनके मित्रों में हर तरह के लोग शामिल होते हैं। इन जातकों को हमेशा ध्‍यान रखना चाहिए कि अपने सभी भेद मित्रों के सामने नहीं खोलें, अन्‍यथा परेशानी में फंस सकते हैं। मीन राशि के लिए गुरु, मंगल और रविवार श्रेष्‍ठ दिन हैं। लाल, पीला, गुलाबी और नारंगी रंग शुभदायी हैं। एक, चार, तीन और नौ अंक शुभ हैं।

नौकरी और व्यवसाय: सहज और अक्सर काल्पनिक, मीन एक ऐसी स्थिति में सबसे बेहतर महसूस करते हैं जहाँ उनके रचनात्मक कौशल आगे आयेंगे, और यह दान के लिए हो तो और भी बेहतर है। मीन के पसंदीदा व्यवसाय हैं: वकील, वास्तुकार, पशु चिकित्सक, संगीतकार, सामाजिक कार्यकर्ता और गेम डिजाइनर।

दूसरों के जीवन में परिवर्तन लाने की जरूरत से प्रेरित होकर वे मदद करने के लिए तैयार रहते हैं भले ही उसका मतलब सीमाओं से परे जाना है। यह राशि दयालु, परिश्रमी, समर्पित और विश्वसनीय है। मीन में जन्मे समस्याओं को सुलझाने में महान हो सकते हैं।

अधिकांश समय मीन पैसे पर बहुत ज्यादा सोच विचार नहीं करते। वे आमतौर पर अपने सपने और लक्ष्य पर अधिक ध्यान केंद्रित करते हैं, लेकिन वे अपने लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए पर्याप्त पैसे बनाने की कोशिश करेंगे। इस क्षेत्र में मीन राशि के दो पहलू हो सकते हैं – एक तरफ वे बिना सोचे समझे बहुत सारा पैसा खर्च करेंगे, दूसरी तरफ वे काफी कंजूस बन सकते हैं। फिर भी, अंत में एक सामान्य जीवन के लिए पर्याप्त पैसा हमेशा रहेगा।

प्यार और स्नेह: अपने दिल की गहराई में मीन राशि में जन्मे लोग असुधार्य रोमांटिक होते हैं। वे बहुत वफादार, कोमल और अपने साथियों के प्रति बिना शर्त उदार हैं। मीन भावुक प्रेमी हैं जिन्हें अपने साथियों के साथ एक वास्तविक संबंध को महसूस करने की जरूरत है। लघु अवधि के रिश्ते और रोमांच के इस राशि के लिए अजीब नहीं हैं। प्यार और रिश्ते में वे आँख बंद करके वफादार और बहुत परवाह करने वाले होते हैं।

सेहत और परिवार: सेहत के लिहाज से मिलाजुला साल रहेगा। सेहत से जुड़ी मामूली समस्याएं तो बनी रहेंगी, मसलन चेहरे पर मुंहासे आना, वजन बढ़ना या घटना। कुछ भी चिंता करने जैसा नहीं होगा। सही खानपान व एक्टिव लाइफस्टाइल अपनाना ही फिटनेस मंत्र है। कामकाज से जुड़ा मानसिक तनाव शारीरिक कष्ट का कारण बन सकता है। अपने आपको तनावमुक्त रखेंगे तो साल सेहतमंद ही गुजरेगा। कोमल और देखभाल करने वाला मीन सबसे अच्छा मौजूद मित्र हो सकता है। वास्तव में, वे अक्सर अपनी जरूरतों के सामने अपने मित्रों की जरूरतों को रखते हैं। वे वफादार, समर्पित, दयालु हैं और जब भी परिवार में या मित्रों के बीच कुछ समस्या होती है, वे इसे हल करने के लिए अपनी पूरी कोशिश करेंगे। अगर कुछ गलत है तो गहन रूप से सहज ज्ञान से युक्त मीन इसके होने से पहले ही समझ लेते हैं। मीन अर्थपूर्ण होते हैं और वे अपने आसपास के लोगों के प्रति अपनी भावनाओं को व्यक्त करने में संकोच नहीं करेंगे। वे ठीक अपनी तरह ही दूसरों से खुला होने की उम्मीद रखते हैं। प्रियजनों के साथ संवाद उनके लिए बहुत महत्वपूर्ण है।

मीन राशि वाले इस भगवान की करें पूजा: गणेश जी की पूजा करें

मीन राशि के जातक करें ये उपाय:

  • सबसे बड़ी समस्या जिम्मेदारियों के प्रति लापरवाही है।
  • इसके लिए भगवान गणेश की उपासना करें।
  • प्रसाद में लड्डू चढ़ाना लाभदायक होगा।
  • मछलियों को दाना खिलाएं।
  • मंदिर में कोई धार्मिक ग्रंथ या पुस्तक दान करें।
  • हर गुरुवार चंदन का तिलक लगाएं।
  • किसी शिव मंदिर में मिठाई चढ़ाएं।
  • गुरुजनों का आशीर्वाद लें।
  • माता-पिता से रिश्ते सम्मान के साथ बनाए रखें।

तत्व: जल

गुणवत्ता: अस्थिर

रंग: चमकीला गुलाबी, नीला, बैंगनी, जामुनी, समुद्री हरा

दिन: गुरुवार, सोमवार

स्वामी: गुरु

सबसे बड़ी समग्र संगतता: कर्क, वृश्चिक

विवाह और भागीदारी के लिए उत्तम: कन्या

भाग्य अंक: 3, 7, 12, 16, 21, 25, 30, 34, 43, 52

मेष राशिफल | Aries horoscope | mesh rashifal in hindi
वृषभ राशिफल | Taurus horoscope | vrshabh rashifal in hindi
मिथुन राशिफल | Gemini horoscope | mithun rashifal in hindi
कर्क राशिफल | Cancer horoscope | kark rashifal in hindi
सिंह राशिफल | Leo Horoscope | singh rashifal in hindi
कन्या राशिफल | Virgo Horoscope | kanya rashifal in hindi
तुला राशिफल | Libra Horoscope | tula rashifal in hindi
वृश्चिक राशिफल | Scorpio horoscope | vrshchik rashifal in hindi
धनु राशिफल | Sagittarius horoscope | dhanu rashifal in hindi
मकर राशिफल | Capricorn horoscope | makar rashifal in hindi
कुंभ राशिफल | Aquarius horoscope | kumbh rashifal in hindi
मीन राशिफल | Pisces horoscope | meen rashifal in hindi

You might also like