Times Bull
News in Hindi

शनिवार को जरूर करें ये अचूक उपाय, बन जाएंगे धनी, होगा दुनिया में आपका नाम

पितृ पक्ष शुरू हो गए हैं और हर व्यक्ति अपने अपने तरीके से या बताए गए दान पुण्य के जरिए उन्हें खुश करने में जुट गया है। आपको जान कर हैरानी होगी कि हर घर में पितृ दोष पाया जाता है। जिन घरों में पितृ दोष ज्यादा होता है, उन घरों के सदस्य हमेशा किसी न किसी वजह से परेशान रहते हैं। शास्त्रों में पितृ दोष से मुक्ति के लिए कई तरह के क्रिया क्लापों के बारे में बताया गया है।

जो लोग पितृ दोष से ज्यादा पीडि़त हैं वे केवल एक दिन अपने पितरों को याद न करें, बल्कि जितने दिन श्राद्ध पक्ष रहें अपने पितरों का तर्पाण् करें। ईश्वर से उनके मोक्ष के लिए प्रार्थना करें।

रोज मंदिर में जाएं और पीपल पर दूध जल चढ़ाएं। पीपल की परिक्रमा करें। शाम होते ही पीपल के नीचे दीया जलाएं। ऐसा करने से पितर खुश होते हैं और आशीर्वाद देते हैं।

अगर आप चाहते हैं कि पितरों को मोक्ष मिल जाए और आप हमेशा के लिए पितृ दोष से मुक्त हो जाएं, तो इसके लिए आप शनिवार से एक अचूक उपाय करें। यह उपाय आपको लगातार 21 शनिवार करना होगा।

हाम आपको स्पष्ट करना चाहते हैं कि आपको जो उपाय बताया जा रहा है, उसके न पूरे होने पर कोई नकारात्मक असर नहीं पड़ता, बल्कि आप जितने भी शनिवार इसे कर पाएंगे उसका फल शुभ ही होता है।

ये है उपाय

– शनिवार को ब्रह्म मुहूर्त में बिस्तर त्यागें और स्नान कर साफ सुथरे कपड़े पहनें।

– इसके बाद गाय का कच्चा दूध लेकर आएं।

– किसी बि व के पेड़ से 21 बिल्व के पत्ते तोड़ें, ध्यान रखें कि पत्ते कहीं से भी खंडित न हों और जमीन पर न गिरे हों। घर लाकर पत्तों को साफ पानी से धो लें।

– इसके बाद तांबे के लोटे या चांदी के लोटे में दूध भरें। इसमें थोड़े से काले तिल मिलाएं।

– एक थाली में लोटा और बिल्व के पत्तों को रखें और शिव मंदिर जाएं। शास्त्रों में हालांकि यह बताया गया है कि यह उपाय अगर उस शिवलिंग पर किया जाए, जो किसी पीपल के पेड़ के नीचे स्थापित हों, तो इसका महत्व बढ़ जाता है, लेकिन ऐसा मंदिर आस पास न भी हो, तो जो भी सिद्ध मंदिर हो वहां जाकर भी यह उपाय कर सकते हैं।

– मंदिर पहुंच कर सबसे पहले तो पीपल पर चढ़ांए और सात बार परिक्रमा करें।
– इसके बाद शिवलिंग के सामने पूर्वाभिराम होकर बैठ जाएं।

– हाथ जोड़कर अपने पितरों को याद करें और उन्हें सूचित करें कि अपके मोक्ष के लिए हम भगवान शिव से प्रार्थना करने जा रहे हैं।

– इसके बाद भगवान शिव से हाथ जोड़कर उपाय का फल प्रदान करने के लिए प्रार्थना करें और एक एक बिल्व पत्र दूध में डुबोकर शिवलिंग पर चढ़ाएं। बिल्व चढ़ाते समय यह मंत्र बोलें – ओम नम: शिवाय, ओम पितृाय नम:। जब सारे बिल्व पत्र चढ़ा दें, उसके बाद भगवान शिव से अपने पितरों को मोक्ष प्रदान की प्रार्थना करें।

– यह उपाय 21 शनिवार करें।

Loading...