रविवार के दिन पीले रंग का कपड़ा लें। 7 हल्दी, 7 गुड़ के टुकड़े, 7 सुपारी, 7 पीले फूल, 70 सेमी. पीले कपड़े और 70 ग्राम चना दाल। इस सामान से माता पार्वती की पूजा करें। इन सभी चीजों को 40 दिनों तक घर में रखें। यह विवाह की हर बाधा को दूर करता है।

अविवाहित कन्या: गुरुवार का व्रत रखें। लड़कियां पुखराज या सुनहला पहन सकती हैं। गुरुवार के दिन कोई भी पीली वस्तु का दान करें। गुरुवारकी दोपहर को सोएं।

अविवाहित लड़के: अमेरिकन जर्कन या हीरा पहनें। शुक्रवार के दिन छोटी कन्याओं को सफेद वस्त्र दान करें। उपाय करते समय श्रद्धा रखनीचाहिए। दूसरों के लिए बुरे विचार रखें। अपना उपाय गुप्त रखें। उपाय करते समय ईश्वर में आस्था और विश्वास रखें। विवाह में आने वालीबाधाओं से बचने के लिए विशेष मंत्र का जाप करना चाहिए।ओम कलीम कृष्णय गोपीजन वल्लभय स्वाहा केशवी केशवराध्याय किशोरीकेस्वस्तुतुआ, रुद्र रूप रुद्र मूर्ति रुद्राणी रुद्र देवताका जाप करें।

राधाकृष्ण की प्रतिमा के सामने इस स्तोत्र का 108 बार जाप करें। गुरुवार के दिन नहाने के पानी में हल्दी रखें। इस जल से स्नान करें। केसर को अपनी डाइट में शामिल करें। विवाह में पीले वस्त्र का विशेष महत्व है। इसलिए पीले रंग के कपड़े पहनें। भारतीय संस्कृति में गाय पवित्र गाय है।गुरुवार के दिन गाय को हल्दी रखते हुए दो लड्डू खिलाएं। आप गुड़ और चना भी खिला सकते हैं।

गुरुवार के दिन केले के पेड़ की पूजा करें। गुरुवार के दिन केले के पेड़ के पास घी का दीपक जलाएं। सोमवार की रात 12 बजे तक कुछ भी खाएं। पानी पिएं। मंगलवार के दिन एक सूखा नारियल लें। चीनी पाउडर, पंचमेवा और 300 ग्राम बूरा रख दीजिये. इस नारियल को पीपल केपेड़ के नीचे रखें। यह उपाय 7 मंगलवार तक करें।

Recent Posts