Chanakya Niti: ऐसा पुत्र अपने घर को स्वर्ग बना देता है और समाज में नाम रोशन करता है।

Avatar photo

By

Sanjay

Chanakya Niti: हर माता-पिता चाहते हैं कि उनके बच्चों के सिर पर हमेशा सफलता और खुशियों का ताज रहे। चाणक्य कहते हैं कि बच्चों को योग्य बनाने के लिए माता-पिता को उनका पालन-पोषण फसल की तरह करना चाहिए।

कैसे एक किसान धूप, ठंड और बारिश की परवाह किए बिना अच्छी फसल की पैदावार के लिए अपनी जमीन की सिंचाई करता है। फसल को जानवरों से बचाते हैं, तब कहीं अच्छी फसल होती है।

उसी तरह आप अपने बच्चों को काबिल बनाने के लिए उनकी प्रतिभा को पहचानें और उन्हें आगे बढ़ने के लिए प्रेरित करें, साथ ही उन्हें सही और गलत का अंतर भी बताते रहें। चाणक्य ने कहा कि कैसी संतान अपने कुल का नाम रोशन करती है. जिस पर न केवल माता-पिता बल्कि पूरे परिवार को गर्व है।

आचार्य चाणक्य ने ऐसे पुत्र का वर्णन किया है जो अपने घर को स्वर्ग जैसा बना देता है। आचार्य चाणक्य कहते हैं कि ऐसे पुत्र को न केवल हर जगह सम्मान मिलता है, बल्कि उसके कारण घर में समृद्धि भी आती है। आचार्य चाणक्य कहते हैं कि गुणी पुत्र से परिवार स्वर्ग बन जाता है। यहां स्वर्ग प्राप्ति का अर्थ सुख प्राप्त करना है। चाणक्य के अनुसार किसी भी पिता के लिए सबसे बड़ी खुशी यह होती है कि उसका पुत्र गुणवान और गुणवान हो. चाणक्य कहते हैं कि ऐसे पुत्र की वजह से परिवार में सुख-शांति के साथ-साथ समाज में मान-सम्मान बढ़ता है।

चाणक्य के अनुसार पुत्र का गुणी और गुणवान होना उसके पिता की शिक्षा पर निर्भर करता है। चाणक्य कहते हैं कि इसी कारण से पिता को अपने पुत्र को विद्वान, गुणवान और सदाचारी बनाना चाहिए। चाणक्य कहते हैं कि जो पिता अपने बच्चों को शिक्षा नहीं देता, वही उसका असली शत्रु होता है। इसलिए चाणक्य कहते हैं कि अपने पुत्रों को विद्या में निपुण बनाना पिता का कर्तव्य है।

Sanjay के बारे में
Avatar photo
Sanjay मेरा नाम संजय महरौलिया है, मैं रेवाड़ी हरियाणा से हूं, मुझे सोशल मीडिया वेबसाइट पर काम करते हुए 3 साल हो गए हैं, अब मैं Timesbull.com के साथ काम कर रहा हूं, मेरा काम ट्रेंडिंग न्यूज लोगों तक पहुंचाना है। Read More
For Feedback - timesbull@gmail.com
Share.
Open App