News in Hindi

शादीशुदा जोड़े रात को भूल कर भी न करें ये चार काम

शादीशुदा जोड़े अक्सर दिन भर अपने अपने काम में व्यस्त रहते हैं और रात में ही उन्हें एक दूसरे के करीब आने का मौका मिलता है, लेकिन शास्त्र कहते हैं कि हर काम को करने का समय नियत है। उस समय से पहले या बाद में किया गया वह काम आपको कष्ट दे सकता है। विवाहित जोड़ों के लिए हमारे पुराणों में ही कुछ कार्य रात में करना स्पष्ट मना किया गया है, इनमें पत्नी के साथ शारीरिक संबंध बनाना भी शामिल है। यहां पढ़ें रात को कौनसे काम करने से दुर्भाग्य आता है।

Read More – शरीर के इस हिस्से पर है तिल तो समझ लीजिए मिलने वाला है वो मौका

Read More – शादी के बाद भी रखी दाढ़ी तो आपको हो सकता है ये बड़ा नुकसान

इत्र लगाना

यह फैशन बन गया है, लोग सुबह नहाते ही सबसे पहले इत्र या सेंट लगाते हैं ताकि दिन भर उनके तन से पसीने की दुर्ग्ंध न आए। कुछ लोग तो रात को साते समय भी इत्र या सेंट लगाकर ही सोते हैं। शास्त्र कहते हैं कि किसी भी तरह की तेज खुशबू परालौकिक शक्तियों को आकर्षित करती हैं। इसलिए रात को सोने से पहले हाथ-पांव व चेहरा धोकर ईश्वर का ध्यान कर फिर सोना चाहिए। इससे बुरे सपने भी नहीं आते और नकारात्मक शक्तियां भी दूर रहती हैं।

खुले बालों में सोना

ज्यादातर महिलाओं को रात में बाल खोलकर सोने की आदत होती है, लेकिन शास्त्रों में ऐसा करने की सख्त मनाही है। माना जाता है कि रात में बाल खोल के सोने पर नकारात्मक शक्तियां आकर्षित होती हैं। इसलिए रात को महिलाओं को चोटी बांध कर ही सोना चाहिए, वहीं जिन पुरुषों के बाल लंबे हैं, उन्हें भी ऐसा ही करना चाहिए।

आधी रात के बाद शारीरिक संबंध बनाना

बेशक इस काम के लिए रात से बेहतर समय कोई नहीं, लेकिन रात में भी कुछ ही घडिय़ां इस कार्य के लिए निश्चित हैं। शास्त्रों के अनुसार रात 12 बजे के बाद शारीरिक संबंध नहीं बनाने चाहिए। 12 बजे के बाद अगला दिन शुरू हो जाता है और ब्रह्मबेला से ठीक पहले वाला समय आरंभ हो जाता है। ऐसे समय पर व्यक्ति की मानसिक व आध्यात्मिक शक्तियां जागृत हो जाती हैं। मध्यरात्रि के एक पहल बाद से ब्रह्म मुहूर्त शुरू हो जाता है।

Read More – घर में रोज जलाएं एक तेज पत्ता, असर देखकर आप नहीं करेंगे आंखों पर यकीन

Read More – घर में न रखें बंद घड़ी, हो जाएगा इ​तना बड़ा नुकसान

यह समय अध्ययन, मनन, ध्यान व भगवान की पूजा-पाठ करने का होता है। कोई नई योजना बनाने के लिए भी यह समय बहुत उपयुक्त है, लेकिन इस समय में भूल कर भी शारीरिक संबंध नहीं बनाने चाहिए अन्यथा पुरुषत्व की हानि होने के साथ ही बुरा समय भी शुरू हो जाता है। शारीरिक संबंध बनाने का सर्वोत्तम समय ब्रह्म मुहूर्त से पहले यानी कि सुबह 3 बजे से पहले का होता है।

श्मशान, कब्रिस्तान व चौराहों पर जाना

विष्णु पुराण के अनुसार रात के समय भूलकर भी श्मशान, कब्रिस्तान या चौराहों पर नहीं जाना चाहिए। रात के समय श्मशान व कब्रिस्तान की आत्माएं चेतन हो जाती हैं। यही नहीं मृत व्यक्तियों के अंतिम संस्कार के समय संबंधियों के रोने बिलखने से भी इन जगहों पर नकारात्मक ऊर्जा बहुत अधिक मात्रा में रहती है, जो रात में आसानी से किसी को भी अपनी गिरफ्त में ले सकती है।