केरल में ‘पैशन वीक’ शुरू

केरल के सभी चर्चो में रविवार सुबह भीड़ देखी गई। बड़ी संख्या में प्रभु यीशु केभक्तों ने पाम संडे में भाग लिया था जो पैशन वीक (अनुराग सप्ताह) का प्रतीक है।पैशन वीक रविवार से ईस्टर (21 अप्रैल) तक होती है। यहां हर दिन विशेष जलसे का आयोजित किया जाएगा, जिसमें सबसे महत्वपूर्ण गुरुवार (18 अप्रैल) और गुड फ्राइडे (19 अप्रैल) होगा।

सेवा का आयोजन यीशु मसीह के येरूसल्लम के प्रवेश के उपलक्ष्य में किया जाता है, जब गुडफ्राइडे को उनकी गिरफ्तारी और क्रूस पर चढ़ने से पहले ताड़ की शाखाओं को उनकी राह पर रखा गया था।

यह कार्यक्रम सड़कों पर कई स्थानों पर मनाया जाता है। कार्यक्रम में भक्त हाथों में ताजे कटे नारियल के पत्तों के साथ भक्त प्रार्थना करते और भजन गाते हुए चलते हैं।

केरल में 33.40 लाख लोगों में से ईसाइयों की संख्या 61.41 लाख है, जिसमें कैथोलिक 50 फीसदी के आसपास हैं।

भले ही चर्चो के अधिकांश समुदायों में इसे मनाने की अवधि अलग अलग हो, लेकिन आर्थोडॉक्स चर्च की अवधि सबसे लंबी है। यहां यह 50 दिनों तक मनाया जाता है, जब भक्त मांसाहारी भोजन त्याग शकाहारी भोजन का सेवन करते हैं।

यहां तक कि जो लोग श्रद्धालु नहीं हैं, वे भी रविवार से लेकर अगले शनिवार तक मांसाहारी भोजन का सेवन नहीं करते हैं।