ये हैं भारत के सबसे बड़े क्रिकेट स्टेडियम, जहां बनते हैं रिकॉर्ड

भारत में सबसे ज्यादा क्रिकेट स्टेडियम है। यहां पर प्रत्येक राज्य में कम से कम एक क्रिकेट स्टेडियम है जहां पर अंतरराष्ट्रीय मुकाबले होते हैं। भारत के मुकाबले में और किसी देश में इतने क्रिकेट स्टेडियम नहीं है। क्या आप जानते हैं कि भारत में क्रिकेट के सबसे बड़े स्टेडियम कौनसे हैं? इनमें से कई स्टेडियम ऐसे हैं जो काफी मशहूर है जबकि कई ऐसे हैं जिनका नाम कम जाना पहचाना है। आज आपको बताते हैं देश के सबसे बड़े स्टेडियम और उनकी दर्शक क्षमता के बारे में।

रायपुर इंटरनेशनल स्टेडियम : इस मैदान का निर्माण 2008 में किया गया था। यह छत्तीसगढ़ क्रिकेट संघ का मुख्यालय है। यह भारत का दूसरा सबसे बड़ा स्टेडियम है। 21 नवंबर 2010 को कनाडा और छत्तीसगढ़ टीम के बीच पहला मैच खेला गया था। इसके बाद यहां पर आईपीएल के मैच भी हो चुके हैं, साथ ही यहां पर चैंपियंस लीग टी20 के मैच हो चुके हैं। हालांकि यहां पर अभी तक कोई अंतरराष्ट्रीय मैच नहीं हुआ है।

ईडन गार्डन्स : कोलकाता यह भारत का सबसे बड़ा और पुराना स्टेडियम है। इसका निर्माण 1865 में हुआ। यह पश्चिम बंगाल और कोलकाता लाइटराइडर्स टीमों का होम ग्राउंड है। यह मैदान अपने दर्शकों के उग्र व्यवहार के लिए भी कुख्यात है। 1996 के वर्ल्ड कप में भारत और श्रीलंका के बीच हुए हंगामे के बारे में पूरी दुनिया जानती है। जीर्णोद्धार होने से पहले इस मैदान की क्षमता एक लाख से ज्यादा थी।

डीवाई पाटिल स्टेडियम : 60 हजार दर्शक क्षमता वाले इस मैदान का निर्माण 2008 में हुआ था। यह मैदान शुरुआत में आईपीएल टीम पुणे वारियर्स का होम ग्राउंड था। दुनियाभर के बेहतरीन स्टेडियमों की तर्ज पर इसे बनाया गया है। यहां पर भी अभी कोई अंतरराष्ट्रीय मैच नहीं हुआ है लेकिन आईपीएल मुकाबले हो चुके हैं।

जवाहर लाल नेहरू स्टेडियम केरल : इस मैदान का निर्माण 1982 में किया था और 2010 में इसका जीर्णोद्धार किया गया था। इसका निर्माण फुटबॉल मैचों के लिए किया गया था। 1998 में भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच खेला गया वनडे यहां पर आयोजित हुआ पहला अंतरराष्ट्रीय मैच था। इसके बाद भारत और पाकिस्तान के बीच भी वनडे हुआ। यहां की पवैलियन सचिन तेंदुलकर के नाम पर है। यहां पर इंडियन सुपर लीग और आईपीएल के मैच भी हो चुके हैं।

राजीव गांधी इंटरनेशनल स्टेडियम हैदराबाद : 2004 में बने इस स्टेडियम की दर्शक क्षमता 55 हजार है। यह मैदान सनराइजर्स हैदराबाद और हैदराबाद रणजी टीम का होम ग्राउंड है। हालांकि टीम इंडिया के लिए यह मैदान ज्यादा भाग्यशाली नहीं रहा है। यहां पर भारत ने तीन टेस्ट और पांच वनडे खेले हैं और इनमें से दो टेस्ट व दो वनडे जीते हैं।

MCA पुणे इंटरनेशनल क्रिकेट सेंटर : एमसीए पुणे इंटरनेशनल क्रिकेट सेंटर की दर्शक क्षमता 55 हजार है। इसका निर्माण 2011 में किया गया था। यह आईपीएल टीम पुणे वारियर्स और महाराष्ट्र रणजी टीम का यह घरेलू मैदान है। साल 2013 यहां पर भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच वनडे मैच खेला गया था। इसके बाद दो अंतरराष्ट्रीय टी20 मैच भी खेले गए थे।

फिरोज शाह कोटला ग्राउंड दिल्ली : दिल्ली का फिरोजशाह कोटला ग्राउंड देश के सबसे पुराने क्रिकेट मैदानों में से एक है। इसका निर्माण 1883 में किया गया था।इसकी दर्शक क्षमता 55 हजार है। यह दिल्ली डेयरडेविल्स और दिल्ली रणजी टीम का होम ग्राउंड है। इस मैदान पर कई ऐतिहासिक रिकॉर्ड बने हैं, जैसे: अनिल कुम्बले का टेस्ट की एक पारी में 10 विकेट।

सरदार पटेल स्टेडियम अहमदाबाद : सरदार पटले स्टेडियम गुजरात का सबसे बड़ा स्टेडियम है और यह अहमदाबाद के मोटेरो में स्थित है। इसकी दर्शक क्षमता 54 हजार है और इसी मैदान पर दिग्गज क्रिकेटर सुनील गावस्कर ने अपने 10 हजार टेस्ट रन पूरे किए थे। अब इस मैदान को फिर से बनाया जा रहा है और बनने के बाद यह दुनिया का सबसे बड़ा क्रिकेट मैदान बन जाएगा।

MA चिदम्बरम स्टेडियम चेन्नई : 50 हजार दर्शक क्षमता वाला यह मैदान 1916 में निर्मित हुआ था। यह चेपॉक के नाम से मशहूर है। भारत और इंग्लैण्ड के बीच 1934 में यहां पर पहली बार मैच खेला गया। 2011 वर्ल्ड कप के आयोजन के लिए मैदान में काफी सुधार किया गया। यह आईपीएल की सबसे सफल टीम चेन्नई सुपरकिंग्स का घरेलू मैदान है।

विदर्भ क्रिकेट एसोसिएशन नागपुर : 2008 में बने इस स्टेडियम की क्षमता 45 हजार है। यह स्टेडियम नागपुर से 15 किलोमीटर दूर है। यहां पर पहला मैच भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच हुआ था, जिसे भारत ने 172 रन से जीता था।

Comments (0)
Add Comment