आठवीं क्लास तक 3 बार फेल हुआ ये शख्स अब है 130800 करोड़ का मालिक

शायद ही किसी ने सोचा होगा कि इंग्लिश टीचर के रूप में एक इंस्टीट्यूट में पढ़ाने वाला शख्स चीन का सबसे अमीर आदमी बन जाएगा। उसे न तो मैथ पसंद और न ही अकाउंट, फिर भी उसकी कामयाबी किसी फिल्मी कहानी से कम नहीं है। फिलहाल मा युन यानी जैक मा चीन के सबसे अमीर आदमी हैं और उनके पास 130800 करोड रुपए की संपत्ति है। इतना ही नहीं, उनकी कंपनी से चीन के 250 मिलियन लोग जुड़े हुए हैं। अमेरिका की बड़ी सॉफ्टवेयर कंपनी याहू ने अलीबाबा डॉट कॉम की सफलता देखकर इस कंपनी में 1 अरब डॉलर कैश इन्वेस्टमेंट करने का फैसला किया है। चीन के हांगझू इलाके में पैदा हुए जैक मा का बचपन काफी मुश्किलों से भरा हुआ था। उनके माता-पिता एक थिएटर में काम करते थे। परिवार में उनके अलावा एक छोटी बहन और बड़ा भाई था। आर्थिक तंगी से जूझ रहे परिवार ने उन्हें सीमित साधनों में जीना सिखाया। 5वीं क्लास में जैक 2 बार और आठवीं क्लास तक 3 बार फेल हुए थे। उन्‍हें करीब 10 बार अमरीका की हावर्ड यूनिवर्सिटी में एडमिशन देने से मना कर दिया गया था। वहीं, 30 नौकरियों में रिजेक्ट किए जा चुके थे।

जैक शुरू से पढ़ाई में फिसड्डी रहे। गणित और विज्ञान तो उन्हें कभी समझ में ही नहीं आया। पर 13 साल की उम्र में उनके मन में एक बात बैठ गई कि यदि वह अंग्रेजी सीख लें, तो उनका कल्याण हो जाएगा। पर अंग्रेजी सिखाने वाला कोई नहीं था। फिर उन्होंने एक तरकीब निकाली। वह रोजाना अपने शहर के मशहूर शांगरी-ला होटल के सामने सुबह पांच बजे पहुंच जाते। इस होटल में अक्सर विदेशी पर्यटक आते थे। जैक ने सोचा कि अगर वह विदेशी पर्यटकों के संग समय बिताएंगे, तो अंग्रेजी सीख जाएंगे। गाइड के तौर पर वह विदेशियों को शहर घुमाते और उनसे अंग्रेजी में ही बात करने की कोशिश करते। कुछ दिनों में वह विदेशी स्टाइल में अंग्रेजी बोलने लगे। सबसे बढिय़ा बात यह थी कि इस काम से उन्हें पॉकेट मनी भी मिल जाती थी। इसके अलावा पर्यटकों से पश्चिमी देशों के तौर-तरीके सीखने में भी मदद मिली।

21 फरवरी 1999 को जैक मा ने अलीबाबा डॉट कॉम की नींव अपने हांग्झू के लेकसाइड गार्डन्स स्थित फ्लैट के एक छोटे से कमरे में रखी। मा की जिंदगी के शुरुआती दिन संघर्ष से भरे थे। जैक दो बार यूनिवर्सिटी में फेल हो चुके हैं और लगभग 10 बार अमेरिका की हावर्ड यूनिवर्सिटी जैक को एडमिशन देने से मना कर चुकी है। बिल गेट्स या स्टीव जॉब्स की तरह मा के पास कंप्यूटर साइंस की भी कोई पृष्ठभूमि नहीं रही। बचपन में कभी उन्होंने कंप्यूटर इस्तेमाल नहीं किया। गणित के पेपर में एक बार उन्हें 120 में से केवल एक नंबर मिला, ऐसे में उनकी कामयाबी की कहानी और भी हैरान करती है। एक समय तो उन्हें केएफसी ने भी नौकरी देने से मना कर दिया था। फिर 1980 में वह अपने शहर में एक स्कूल टीचर की नौकरी करने लगे। तीन साल बाद उन्होंने इस नौकरी को छोड़ ट्रांसलेट करने वाली एक कंपनी खोली।

जैक मा के दोस्तों ने उन्हें इंटरनेट दिखाया। जैक ने इंटरनेट पर सबसे पहली बार बीयर (भालू) शब्द लिखा। यह शब्द लिखते ही अमरीकन बीयर, जर्मन बीयर जैसे शब्द सामने आए, लेकिन चाइनीज बीयर का नामोंनिशान नहीं दिखा। ब्लूमबर्ग रिपोर्ट ने एक डाक्युमेंटरी के हवाले से बताया है कि चाइनीज बीयर का जिक्र न होने से जैक मा की उत्सुकता बढ़ गई। इसके बाद जैक ने चाइना शब्द लिखा। सभी सर्च इंजनों ने ‘नो चाइना, नो डेटाÓ के रूप में इसका जवाब दिया। इस बात ने जैक को चाइनीज में होम पेज तैयार करने के लिए प्रेरित किया। होम पेज बनने के पांच घंटे के भीतर ही उन्हें अमेरिका और जर्मनी जैसे देशों से पांच ईमेल मिले। इंटरनेट की ताकत ने जैक को हैरान कर दिया। जैक मा ने खुद एक इंटरव्यू में माना है कि भले ही वे इंटरनेट कंपनी अलीबाबा चलाते हैं, लेकिन तकनीक को लेकर उनकी जानकारी सीमित है। मा का कहना है कि उन्हें सिर्फ ईमेल करना और वेब सर्फिंग ही आता है।

जैक मा ने 1988 में ग्रेजुएशन किया और 1995 में यानी 7 साल बाद वह इंटरनेट को जान पाए। उस समय जैक अमेरिका में थे। होम टाउन हांग्झू में जैक मा को इंग्लिश सिखाने वाले गुरु बिल अहो उनके लिए इंटरनेट के भी गुरु साबित हुए। जैक ने चीन लौटकर चाइना पेजेज नाम से ऑनलाइन डायरेक्ट्री शुरू की। यह व्यापारियों और कस्टमर्स के बीच पुल का काम करती थी। इसे सफल बनाने के लिए मा ने एड़ी चोटी का जोर लगाया और जरूरत पडऩे पर डोर-टू-डोर दस्तक दी।

इसकी कामयाबी से मा चीन में ‘मिस्टर इंटरनेट’ के नाम से मशहूर हो गए। लेकिन चीन में इंटरनेट का प्रसार ज्यादा न होने से मा ने कंपनी बंद कर दी। जैक के पर्सनल असिस्टेंट चेन वी की किताब के हवाले से ब्लूमबर्ग ने अपनी रिपोर्ट में लिखा है कि चाइना पेजेस शुरू करने के लिए जैक ने अपनी बहन से उधार लेकर और खुद की बचत से कंपनी में 7,000 युआन की रकम लगाई। लेकिन चाइना पेजेस फेल हो गया। निराशा में जैक मा ने बीजिंग में चीन की कॉमर्स मिनिस्ट्री में काम करना शुरू कर दिया। लेकिन कुछ समय बाद जैक मा ने यह नौकरी भी छोड़ दी और अपने गृह प्रदेश हैंग्जू चला गया।

कुछ दिनों बाद जैक ने फिर हिम्मत दिखाई। अपने घर पर 17 दोस्तों को बुलाया। उनके सामने ऑनलाइन खरीदारी के लिए एक कंपनी बनाने का आइडिया पेश किया। आइडिया गजब का था। दोस्तों को पसंद आया। वे कंपनी में पैसा लगाने को राजी हो गए। कंपनी का नाम रखा गया अलीबाबा। एक छोटे-से कमरे में अलीबाबा कंपनी की शुरुआत हुई। चीन में ऑनलाइन खरीदारी का आइडिया एकदम नया था। जैक ने अपनी वेबसाइट के जरिए कंपनियों के सामान को उपभोक्ताओं के सामने पेश किया। उन्होंने इस बात का विशेष ख्याल रखा कि लोग सुरक्षित और सस्ती ऑनलाइन खरीदारी कर सकें। शुरुआत शानदार रही। फिर कारोबार को बढ़ाने के लिए निवेश की जरूरत पड़ी। जैक जापानी सॉफ्टवेयर कंपनी सॉफ्ट बैंक से कर्ज हासिल करने में कामयाब रहे। अलीबाबा कंपनी में पैसा लगाने वाले एक निवेशक वू यिंग कहते हैं, एक पुरानी-सी जैकेट और हाथ में कागज पकड़े जैक हमारे पास आया। कुल छह मिनट में उसने निवेशकों को इतना यकीन दिला दिया कि उन्हें दो करोड़ डॉलर का कर्ज मिल गया।

लोगों का भरोसा जीतने के बाद सबसे बड़ी चुनौती थी सरकार को भरोसे में लेना। जैक ने चीनी नेताओं को यकीन दिलाया कि उनकी कंपनी किसी भी तरह पार्टी या सरकार के खिलाफ नहीं है। कंपनी का कारोबार बढऩे लगा। दिलचस्प बात यह थी कि उन्होंने कभी प्रबंधन की पढ़ाई नहीं की, न ही किसी तरह की बिजनेस ट्रेनिंग ली। पर अपनी कंपनी का प्रबंधन उन्होंने बखूबी किया। जैक कहते हैं, मैं गणित में अच्छा नहीं हूं। मैंने मैनेजमेंट की पढ़ाई नहीं की। मुझे अकाउंट्स की रिपोर्ट जरा भी समझ नहीं आती। पर कंपनी चलाना सीख गया। देखते-देखते वह एशिया के दूसरे सबसे अमीर बिजनेसमैन बन गए। चीन की सोशल नेटवर्किंग साइट वीबो पर उनके 1.5 करोड़ से ज्यादा फॉलोअर हैं। आज अलीबाबा दुनिया के ई-कॉमर्स बाजार की बड़ी कंपनियों में शुमार होती है। एक दिन में सबसे ज्यादा सामान बेचने का रिकॉर्ड अलीबाबा के नाम है। अलीबाबा ने एक दिन में 925 अरब रुपए की सेलिंग की है। चीन के सबसे अमीर शख्स चुने जाने पर जैक ने कहा, अमीर बनकर जीना आसान नहीं होता। जब आप अमीर होते हैं, तो लोग आपके साथ सिर्फ पैसे के लिए जुड़ते हैं। यह ठीक नहीं है।

नेशनल कॉलेज एंट्रेंस एग्जाम में फेल होने के बाद मा ने 1988 में ग्रेजुएशन किया। उसी साल मा ने अपनी प्रेमिका जैंग यिंग से शादी की। दोनों की मुलाकात कॉलेज में हुई थी। उस दौर में मा हर महीने 15 अमेरिकी डॉलर कमाते थे। जैक मा की पत्नी कहती हैं कि जैक हैंडसम नहीं हैं, लेकिन मुझे उनसे इसलिए प्यार हो गया, क्योंकि वे ऐसे कई काम कर सकते हैं जो हैंडसम पुरुष नहीं कर सकते। अलीबाबा की कामयाबी के पीछे इसमें काम करने वाले लोगों का जुनून भी है। एक इंटरव्यू में जैक ने कहा कि मेरी एक स्पीच के बाद किसी एक कंपनी के सीइओ ने मुझे कहा कि मैं पागल हूं। उसने कहा कि इस तरह से बिजनेस नहीं चलाया जाता है। फिर मैंने उसे अलीबाबा आने का न्योता दिया। अलीबाबा में तीन दिन बिताने के बाद उसने मुझसे कहा कि अब वह समझ गया। यहां काम कर रहे 100 लोग आपकी ही तरह पागल हैं।

जैक ऐसा मानते हैं कि कोई भी गलती आपके लिए एक शानदार रेवेन्‍यू है। 20 साल की उम्र तक एक अच्‍छे स्‍टूडेंट बनो। एन्‍टरप्रेन्‍योर बनने के लिए आपको थोड़ा अनुभव लेना जरूरी है। 25 साल की उम्र तक आपको पर्याप्‍त ग‍लतियां करनी चाहिए। बार-बार गिरो और हर बार उठो। नाकाम होने से कभी घबरा नहीं चाहिए। हर समय को एन्जॉय करो। 30 साल की उम्र तक आपको किसी को फॉलो करना चाहिए। छोटी कंपनी में काम करो। बड़ी कंपनी में प्रोसेसिंग अच्‍छे से सीख सकते हैं, लेकिन यहां आप एक बड़ी मशीन का हिस्‍सा बनकर रह जाएंगे। छोटी कंपनी में काम करते हुए आप पैशन सीखेंगे। कई काम एक साथ करना सीखेंगे। ये ज्‍यादा मायने नहीं रखता कि आप किस कंपनी में काम करते हो, बल्कि यह महत्‍वपूर्ण है कि आपका बॉस कौन हैं। एक अच्‍छे बॉस को फॉलो करना फायदेमंद होगा।

एक सफल एन्‍टरप्रेन्‍योर बनना चाहते हैं तो 30 से 40 साल की उम्र में खुद के लिए काम करो । 40 से 50 साल की उम्र तक आपको उन चीजों पर काम करना चाहिए, जिसमें आप दक्ष हों। नई चीजें ट्राई न करें। इसलिए उन चीजों पर फोकस करें जिसमें आप एक्‍सपर्ट हों। 50 से 60 साल की उम्र तक आपको युवा लोगों के लिए काम करना चाहिए। युवाओं पर विश्‍वास करें, उन पर निवेश करें। वे आपसे ज्‍यादा अच्‍छा काम कर सकते हैं। 60 साल की उम्र के बाद खुद के लिए समय देना चाहिए जैक मा की कहानी हमें प्रेरित करती है की हमें शुरुआती असफलताओं से घबराना नहीं चाहिए। बल्कि उसका समझदारी के साथ मुकबला करो क्यों की वक्त हमेशा एक सा नहीं होता है अगर आपकी जिन्दगी में अभी छांव है तो इंतजार करो सफलता की किरण आपकी जिन्दगी को भी रोशन करेगी।

Comments (0)
Add Comment