क्या स्वचालित कारें गाड़ी ड्राइव करने का अानंद खत्म कर देनेवाली हैं?

नही ऐसा बिल्कुल नही है बल्कि यह भी हो सकता है कि यह हमारे आनंद को और अत्यधिक सुखद की अनुभूति कराये जैसे कि कई सारे व्यक्ति ऐसे होते है जो गाड़ी नही चला पाते पर उनका मन भी अत्यधिक तेज गति से गाड़ी चलाना और बहुत सारे एक्शन को दिखाना होता है उस गाड़ी में बैठ कर उसका मज़ा लेना होता है ।

हमें यह ध्यान में रखना चाहिए कि हर उपलब्ध सेवा के लाभ एवं दोष उपभोक्ता पर निर्भर करते हैं।

कुछ लोग हैं जिन्हें गाड़ी चलाने में आनंद आता है, और वो गाड़ी सिर्फ परिवहन के लिए प्रयोग नहीं करते। वो बिना किसी मक्सद के इधर से उधर घुमते हैं क्योंकि उन्हें इस बात से संतुष्टी मिलती है।

कुछ लोग हैं जिन्हें गाड़ी चलाना उतना पसंद नहीं, पर उन्हें इसकी आवश्यकता है, ताकि वो परिवहन कर सकें। ऐसे लोगों के लिए स्वचलित गाड़ीयाँ एक वर्दान के समान हैं।

हमें ये भी याद रखना चाहिए कि स्वचलित गाड़ीयों मे भी खुद से चलाने का विकल्प होगा, तो जिन्हें गाड़ी चलाने में मज़ा आता है वो अभी भी इसका आनंद ले सकते हैं।

स्वचालित गाड़ी को और अत्यधिक एडवांस्ड बना कर हमें मानव द्वारा चलित गाड़ी से और अधिक आनंद प्राप्त कर सकते है ।

बहुत से लोग है जो ड्रिफ्ट करना चाहते है पर उन्हें न सीख पाने की वजह से वो मायूस रहते है और अगर करते भी है तो मन मे शंका रहती है दुर्घटना होने की जबकि स्वचलित गाड़ी में ये आनंद सुरक्षा पूर्वक लिया जा सकता है ।

अतः जब भी कोई नई चीज आती है तो मानव अपने हिसाब से खुद ही आनंद प्राप्त करने के लिए कई प्रयासों में लग जाता है ।

जैसे कंप्यूटर के प्रारंभिक समय मे जब कंप्यूटर का उपयोग गणना के लिए जाता था पर यदि हम आज देखे तो यह कहीं अधिक मनोरंजन का साधन भी बन गया है ।

Comments (0)
Add Comment