Times Bull
News in Hindi

यहां हुई मकड़ियों की बारिश , सारा शहर ढंका रेशम की चादर से

आप सभी ने तरह तरह की बारिश के बारे में सुना होगा लेकिन क्या कभी मकड़‍ियों की भी बारिश होती है ऐसा सुना है? जी हां न्‍यू साउथ वेल्‍स के दक्षिणी टेबलैंड शहर में ऐसी ही एक घटना सामने आई है जिसमें मकड़‍ियों ने पूरे शहर को घेर लिया और उसे अपने जालों से ढक दिया।

सुनने में थोड़ा अजीब लग रहा है लेकिन यह सच है , इस शहर में मकड़ियों की बारिश हो रही है जिसने शहर को अपने कब्जे में कर लिय़ा है।

पूरा शहर रेशम की एक चादर से ढंका हुआ नजर आ रहा था। यह घचना अब अपने मंजर प थी तब यहां रहने वाले एक व्‍यक्ति ने फेसबुक पर रिपोर्ट करते हुए बताया कि उसके क्षेत्र में लाखों की तादाद में नन्‍हीं मकड़‍ियां कहीं से टपक रही हैं।

इस घटना को ‘परियों के बाल’ के रूप में प्रचारित किया जा रहा है जिसमें मकड़‍ियां वनस्पितयों पर चढ़ाई करके रेशम के धागे छोड़ रहीं हैं। हवा के संपंर्क में आते ही यह धागे उन्‍हें हवा में उड़ने में मदद करते हैं।

घटना की तस्‍वीरों में शहर के मैदान और खेत एक झीनी सी रेशम की चादर से ढंका हुए नजर आ रहे हैं। यहां रहने वाले इयान वाटसन मकड़‍ियों की इस फौज को देखकर डर गए जो उनकी ग्रामीण अचल संपत्ति पर काबिज हो गई।

वहीं एक अंग्रेजी वेबसाइट की खबर के अनुसार, फेसबुक पर बने गोलबर्न कम्‍युनिटी फोरम पेज पर उन्‍होंने पोस्‍ट करके पूछा भी था कि ” क्‍या मेरे अलावा और भी कोई आकाश से गिरती लाखों मकडि़यों को देख रहा है? आप देख सकते हैं कि बड़ी संख्‍या में छोटी मकड़‍ियां जाले बनाए जा रही हैं और मेरा घर इससे ढंक चुका है। कोई किसी वैज्ञानिक को बुलाओ।

खबर के अनुसार, यह पूरी घटना कुछ और नहीं बल्कि कथित तौर पर मकड़‍ियों के वैश्विक विस्‍थापन की पद्धति है। कभी-कभी यह पूरे मैदान को घेर लेती है जो रेशम की चादर सा नजर आता है।

मौसम की स्थिति भी इस घटना के अहम है। अधिकांश मामले तब हुए जब ठंडे दिन थे और शीतल बयार चल रही थी। यह घटना बाढ़ के बाद ज्‍यादा देखने में आती है जब मक‍ड़‍ियों के झूण्‍ड अपने जालों की मदद से प्रभावित इलाके से भागने की कोशिश करती हैं।

2012 में न्‍यू साउथ वेल्‍स के दक्षिणी हिस्‍से में आई बाढ़ के बाद मकड़‍ियों को ऊंचाई वाली जगहों पर जाने के लिए इस तरह के तरीके अपनाते देखा गया था। हालांकि, यह पूरी घटना किसी के भी लिए नुकसानदायक नहीं थी। फिलहाल शहर के लोगों को इससे राहत मिल गई है लेकिन वह इस वाकया को भूल नहीं सकते हैं क्योंकि यह उनके लिए एक अजीब सा अनुभव रहा है।

Loading...