Times Bull
News in Hindi

जमीन के नीचे बिना खोजे मिला एक पुराना शहर, वैज्ञानिक और पुरातत्वविद् हैरान

पिछले दिनों तुर्की में जमीन के नीचे एक ऐसे शहर का अवशेष मिला है, जो करीब 5 हजार साल पहले बसाया गया था। सबसे खास बात ये कि इस शहर की खोज नहीं की गई, ये अचानक मिला है और ऐसे शहर की बसाहट को देखकर भूगर्भ वैज्ञानिक और पुरातत्वविद् हैरान हैं।

दरअसल, तुर्की के नेवसेहिर प्रांत में कुछ पुराने घरों को गिराने का काम चल रहा था, तभी मलबा हटा रहे श्रमिकों को  वहां करीब 7 किलोमीटर लंबी एक सुरंग का पता चला। निर्माण कार्यों के लिए तैनात अधिकारियों को जब इस सुरंग के रास्ते आगे बढे तो उन्हें एक शहर के खंडहर मिले। जानकारी भूगर्भ वैज्ञानिकों और पुरातत्वविद् को दी गई तो सर्वेक्षण में जैसे-जैसे और जानकारियां मिली, वो हैरान होते चले गए।  

तुर्की के समाचार पत्र हुर्रियत न्यूज के मुताबिक सर्वेक्षण में पता चला कि ये 5 हजार साल पहले बसाए गए इस को जमीऩ के नीचे शायद इसलिए बसाया गया था, विदेशी आक्रमणकारियों से बचा जा सके। अंदाजा लगाया गया है कि ये शहर तब बसाया गया जब तुर्की में प्राचीन ऑटोमन साम्राज्य का काल था। जमीन से करीब 371 फुट नीचे इस शहर की बसाहट लगभग 50 लाख वर्ग फुट में फैली थी। शहर में घरों, गलियों और सड़कों का निर्माण बहुत ही संतुलित और वैज्ञानिक तरीके से किया गया था।

शहर के कई गुप्त रास्तों का भी पता चला है,  जिनका इस्तेमाल शायद आपातकाल में सुरक्षित बाहर निकलने के लिए किया जाता होगा। इसके खंडहरों में एक ऐसी बहुमंजिली इमारत मिली है जिसमें अलग रसोई, ऊपर जाने के लिए सीधी और घुमावदार सीढियां, स्नानघर, बरामदे, पत्थर की चक्कियां, रौशनदान, पानी आपूर्ति की लाइनें और यहां तक कि दीप रखने वाले आले भी बने हुए हैं। माना जा रहा है कि इस शहर में करीब 20 हजार लोग रहते थे।

पुरातत्वविद् इस हैरान करने वाले शहर से संबंबित और भी खोज करना चाहते हैं, लेकिन शहर के नीचे और उसके आसपास की मिट्टी ऐसी है कि वहां और खुदाई से खंडहरों को नुकसास पहुंचने की संभावना है। इसलिए इसका काम विशेष दल को सौपंने की तैयारी की जा रही है। इसके पहले खंडहरों के बारे में ज्यादा जानकारी जुटाने के लिए जियो रडार मशीनों का इस्तेमाल किया जाएगा।

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.